जेएनएन, चंडीगढ़। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के हरियाणा दौरे की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा चुका है। इनेलो और कांग्रेस के विरोध के बीच सुरक्षा के लिहाज से गृह सचिव व डीजीपी ने रैली को हरी झंडी दे दी है। छह माह के अंतराल में शाह दूसरी बार हरियाणा आ रहे हैं। यहां से वे भाजपा के मिशन 2019 का आगाज करेंगे। जाटों को मनाने में कामयाब भाजपा के लिए अब इनेलो व कांग्रेस के विरोध से निपटना जहां चुनौती होगी, वहीं पार्टी के नेताओं को उम्मीद है कि सब कुछ शांत ढंग से निपट जाएगा।

शाह 15 फरवरी को जींद में रैली के संबोधित करेंगे। भाजपा के करीब 15 हजार बूथ हैं। हर बूथ से पांच बाइक और दस व्यक्ति रैली स्थल तक पहुंचाने का प्लान तैयार किया गया है। हरियाणा में ऐसा पहली बार होगा, जब इतनी बड़ी बाइक रैली होने जा रही है। अभी तक लोग बसों, ट्रैक्टर, ट्रालियों और गाडिय़ों में भरकर रैलियों में पहुंचते रहे हैं। इस रैली के जरिए भाजपा राज्य में जहां अपने साढ़े तीन साल के कामकाज पर मुहर लगवाने का काम करेगी, वहीं भविष्य का रोडमैप भी बताएगी।

सुरक्षा के लिहाज से शाह हेलीकाप्टर के जरिए जींद पहुंचेंगे। वे हैलीपेड से थोड़ी दूरी तक ही बाइक पर चलेंगे। सभी मंत्रियों व विधायकों के बाइक पर चलने के रूट प्लान भी तैयार हो चुके हैं। उन्हें अभी सार्वजनिक नहीं किया जा रहा है। सभी मंत्रियों व विधायकों ने अपनी सुविधा अनुसार रूट प्लान तैयार किए हैं। भाजपा प्रभारी डा. अनिल जैन, मुख्यमंत्री मनोहर लाल, प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला और महामंत्री संगठन सुरेश भट्ट ने रैली की तैयारियों की समीक्षा के बाद दावा किया कि रैली बेहद कामयाब होगी और पार्टी अध्यक्ष कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन करेंगे।

दूसरी तरफ इनेलो व कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। इनेलो के प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा और विधानसभा में विपक्ष के नेता अभय सिंह चौटाला ने स्पष्ट किया कि उनका विरोध शाह की रैली से नहीं है। हम चाहते हैं कि शाह एसवाईएल पर अपनी पार्टी और सरकार की स्थिति साफ करें। एसवाईएल, दादूपुर नलवी और मेवात कैनाल का पानी मांगना कोई गुनाह नहीं है।

वहीं कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डा. अशोक तंवर की भी कुछ ऐसी ही राय है। उनका कहना है कि साढ़े तीन साल में भाजपा ने सिर्फ प्रदेश को जलाने का काम किया है। युवाओं के रोजगार छीने। अब शाह को हरियाणा आने का कोई हक नहीं है।

पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा पहले ही रैली का विरोध नहीं करने का एलान कर चुके हैं, लेकिन उनके पैर में आए फ्रैक्चर की वजह से अब हुड्डा समर्थक भी रैली का कोई विरोध नहीं करेंगे। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला और मीडिया विभाग के चेयरमैन राजीव जैन सियासी दलों को नसीहत देते हैं कि यदि वे ऐसे रैली का विरोध करेंगे तो कल उनकी रैलियों का भी विरोध हो सकता है। हरियाणा विधानसभा के स्पीकर कंवरपाल गुर्जर का कहना है कि स्वस्थ लोकतंत्र में यह परंपरा उचित नहीं है।

यह भी पढ़ेंः अमित शाह के दौरे के लिए अद्र्धसैनिक बलों ने संभाला मोर्चा, हेलीकाप्टर भी करेंगे गश्त

 

Posted By: Kamlesh Bhatt