जेएनएन, पंचकूला। पत्नी प्रेम संबंधों में रोड़ा बनी तो एडवोकेट पति की प्रेमिका ने अपने जीजा के साथ मिलकर उसे रास्ते से हटा दिया। बाद में उसने उसका शव डंपिंग ग्राउंड में दबा दिया, लेकिन महिला के पति ने पुलिस को भ्रमित करने के लिए शव को कहीं और ठिकाने लगा दिया और वहां कुत्ते की शव दबा दिया। पुलिस ने मामले में एडवोकेट की प्रेमिका व उसके जीजा को गिरफ्तार किया तो मामले का राज खुला।

15 जनवरी को हत्या की साजिश रची गई थी, क्योंकि सेक्टर 19 निवासी रजनी को पति ए़डवोकेट मनमोहन पर शक हो गया था। दोनों हत्यारोपी सात दिन की पुलिस रिमांड पर हैं। मामले में अब हत्यारोपी पति को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। मोनिका मनीमाजरा में ब्यूटीपार्लर की दुकान चलाती है। मोनिका और एडवोकेट मनमोहन का पिछले काफी समय से प्रेम प्रसंग चल रहा था। मोनिका का एडवोकेट के घर आना जाना लगा रहता था।

एडवोकेट की पत्नी रजनी भी मनीमाजरा में उसकी दुकान में कई बार गई थी। इस दौरान वह रजनी के साथ काफी घुल मिल गई थी। एडवोकेट मनमोहन सिंह और मोनिका इतने करीब आ गए थे कि उन्होंने शादी करने का फैसला कर लिया था, लेकिन मनमोहन की पत्नी रजनी रास्ते का रोड़ा बन रही थी। रजनी को रास्ते से हटाने के लिए मोनिका व उसका जीजा संदीप व रजनी का पति एडवोकेट मनमोहन ने मिलकर रजनी की हत्या की योजना बनाई थी।

ऐसे रची हत्या की साजिश

पुलिस सूत्रों के अनुसार आरोपी मोनिका ने रजनी को सेक्टर-5 यवनिका पार्क में बुलाया जहां पर पहले से ही आरोपी संदीप कुमार मौजूद था। दोनों ने मिलकर रजनी को कार में बिठाया और इसके बाद रस्सी से गला घोंटकर उसे मौत के घाट उतार दिया। रजनी के शव को ठिकाने लगाने के लिए वह सेक्टर-23 डंपिंग ग्राउंड में गए और गड्ढा खोदकर उसके शव को दबा दिया।

पुलिस सूत्र बता रहे हैं कि इसके बाद आरोपी मोनिका ने एडवोकेट को बताया कि शव को डंपिंग ग्राउंड के पास दबा दिया है। एडवोकेट मनमोहन ने शव को डंपिंग ग्राउंड में दबाने पर ऐतराज किया। पुलिस सूत्रों के अनुसार रजनी के पति ने सेक्टर-23 डंपिंग ग्राउंड में जाकर शव को निकाला और उसकी जगह पर कुत्ते को वहां पर दबा दिया था। जिसके चलते खुदाई के दौरान पुलिस को वहां से रजनी के जूते तो मिले थे, लेकिन कुत्ते का शव मिला था।

प्राथमिक जांच में पति मनमोहन भी पुलिस के शक के घेरे में आ गया था, लेकिन मामला वकील से जुड़ा होने के चलते पुलिस बिना सबूत पंगा नहीं लेना चाहती थी। यहां बता दें कि 16 जनवरी को जब मृतका रजनी के बच्चे स्कूल से घर आए तो उन्होंने अपनी मां को घर मौजूद नहीं पाया। बच्चों ने अपने पिता मनमोहन को इस बारे में बताया। इसके बाद मनमोहन ने घर पहुंचकर आस-पड़ोस, रिश्तेदारों और जान-पहचान वालों के यहां अपनी पत्नी को खोजने का झूठा ड्रामा किया था।

यह भी पढ़ेंः गर्भवती गर्लफ्रेंड को जीजा के पास ले गया युवक, जीजा ने साथियों संग किया गैंगरेप

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस