राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। Formation of Third Front: हरियाणा में बिहार में सियासी उलटफेर के बाद तीसरे मोर्चे के गठन को लेकर माहौल गर्मा गया है। इस मुद्दे पर इनेलो के प्रधान महासचिव अभय सिंह चौटाला और कांग्रेस नेता व पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा आमने-सामने आ गए हैं। दूसरी ओर, बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार अगले महीने ताऊ देवीलाल जयंती समारोह में हरियाणा आ सकते हैं। इस समारोह तीसरे मोर्चे को लेकर अहम पहल हो सकती है।   

अभय बोले- 2024 तक तीसरे मोर्चे का गठन होकर रहेगा, हुड्डा ने कहा- कांग्रेस ही भाजपा का विकल्‍प

देश में तीसरे मोर्चे के गठन पर अभय चौटाला और भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बीच राजनीतिक तल्खियां देखने को मिलीं।इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के प्रधान महासचिव अभय सिंह चौटाला ने दावा किया कि 2024 के चुनाव से पहले देश में तीसरा मोर्चा बनकर रहेगा। बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसकी शुरुआत कर दी है। अभय चौटाला के इस दावे के विपरीत पूर्व मुख्यमंत्री एवं विधानसभा में विपक्ष के नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि देश में तीसरे मोर्चे की कोई जरूरत नहीं है। देश और प्रदेश दोनों स्थानों पर कांग्रेस पार्टी भाजपा का विकल्प है।

फतेहाबाद में ताऊ देवीलाल के जयंती समारोह में आएंगे नीतीश कुमार

दूसरी ओर, पूर्व उप प्रधानमंत्री स्व. देवीलाल के जयंती समारोह में हर साल ताऊ देवीलाल और ओमप्रकाश चौटाला के साथी उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंचते हैं। इस बार इनेलो राज्य स्तरीय समारोह फतेहाबाद में मना रहा है। क्या इस बार  बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समारोह में शामिल होंगे,  इस सवाल पर अभय चौटाला ने कहा कि तमाम वे साथी आएंगे, जो तीसरे मोर्चे में शामिल हो सकते हैं।

अभय चौटाला ने कहा कि इनेलो प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला लंबे समय से तीसरा मोर्चा बनाने के प्रयासों में लगे हुए हैं। उनके उम्रदराज होने की वजह से किसी को यह बात जंचती नहीं थी, लेकिन बिहार में महागठबंधन के रूप में इसकी शुरुआत हो गई है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने क्षेत्रीय पार्टियों को किनारे लगाना शुरू कर दिया है। पहले कर्नाटक, फिर महाराष्ट और गोवा में ऐसा हुआ। झारखंड में भी ऐसी ही कोशिश हुई।

यह भी पढ़ें: Nitish Effect: बिहार के बदलाव से तीसरा मोर्चा बनाने के ओपी चौटाला के प्रयासों को मिली हवा, अब जजपा पर निगाह

अभय चौटाला ने कहा कि बिहार में नीतीश कुमार ने भाजपा की कोशिश को सिरे नहीं चढ़ने दिया। नीतीश कुमार ने पूरे देश की क्षेत्रीय पार्टियों को सबक दिया है। इसलिए भाजपा के गैर प्रजातांत्रिक कार्यों के खिलाफ देश में तीसरा मोर्चा हर हाल में बनकर रहेगा। उन्होंने कहा कि जिस तरह से कांग्रेस के खिलाफ चौधरी देवीलाल देश में तीसरा मोर्चा लेकर आए थे, उसी तरह से अब भाजपा के खिलाफ ओमप्रकाश चौटाला और नीतीश कुमार सरीखे नेता इस कार्य को करने में लगे हैं।

दूसरी तरफ, पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि हर राज्य की अलग-अलग स्थिति होती है। बिहार में महागठबंधन में कांग्रेस शामिल है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वहां तीसरा मोर्चा बन गया। उन्होंने कहा कि देश में भाजपा का विकल्प कांग्रेस है, इसलिए तीसरा मोर्चा बनाने की जरूरत ही नहीं है। उन्होंने हरियाणा का उदाहरण देते हुए कहा कि अभय चौटाला की सोच के बारे में वह स्वयं जानें, लेकिन राज्य में भाजपा-जजपा गठबंधन का विकल्प कांग्रेस ही है। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि यद सरकार गिरी गिराई सरकार है, जो सिर्फ अपने दिन पूरे कर रही है।

Edited By: Sunil Kumar Jha