अनुराग अग्रवाल, चंडीगढ़। हरियाणा में जल्द ही करीब 50 हजार सरकारी नौकरियों की भर्ती प्रक्रिया शुरू होने वाली है। इस भर्ती प्रक्रिया में सिर्फ वही उम्मीदवार भाग ले सकेंगे, जिन्होंने कामन एलिजिबिल्टी टेस्ट (संयुक्त पात्रता परीक्षा) यानी सीईटी पास किया होगा। इसका फायदा यह होगा कि इन पदों के लिए लाखों युवा लाइन में खड़े नजर नहीं आएंगे। करीब साढ़े पांच हजार सिपाहियों की भर्ती के लिए साढ़े तीन लाख से अधिक युवाओं के आवेदन के बाद हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने पहले चरण में ही आवेदकों की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सीईटी क्वालीफाई करने की अनिवार्यता लागू कर दी है।

हरियाणा में अब जितनी भी सरकारी भर्तियां होंगी, उनमें सामाजिक आर्थिक मानदंडों के नए निर्धारित अंकों का लाभ दिया जाएगा। पहले से चल रही ऐसी भर्तियां, जिनमें डाक्यूमेंट वैरीफिकेशन का काम चल रहा या पूरा हो चुका है, उनमें पुराने नियम लागू रहेंगे। नए नियमों के मुताबिक सामाजिक आर्थिक मानदंड के नंबर अब 10 के बजाय बजाय सिर्फ पांच मिलेंगे। पहले विवाहित महिला उम्मीदवारों को नौकरी में सामाजिक आर्थिक मानदंडों का लाभ देने के लिए सिर्फ उसका पैतृक पक्ष देखा जाता था, अब उसका ससुराल पक्ष भी देखा जाएगा।

विवाहित लड़की का परिवार उसका ससुराल होगा और अविवाहित लड़की का परिवार उसका मायका होगा। जिनके घर में सरकारी नौकरी नहीं है, उनको 5 और जिसके पिता या पति की मौत हो चुकी है, उसको भी 5 अतिरिक्त अंक मिलते थे। अब अनुभव के अंक 8 से घटाकर 4 कर दिए गए हैं। नए नियमों के तहत अभ्यर्थी केवल एक कैटेगरी में अतिरिक्त अंकों का लाभ ले सकता है।

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने लिखित परीक्षा भी 95 अंकों की कर दी है। पहले लिखित परीक्षा 90 अंकों की होती थी। ऐसी भर्तियां जो विज्ञापित हो गई थी, मगर जिनकी परीक्षाएं नहीं हुई थी, वह सब रद कर दी गई है। इनमें 9343 भर्तियां शामिल हैं। इनकी परीक्षाएं फरवरी तक होने वाली थी। अब नए सिरे से इन भर्तियों में वह लोग शामिल होंगे, जिन्होंने सीईटी पास किया होगा। हालांकि पूर्व में जब उन्होंने आवेदन किया था, तब उनकी जो आयु थी, नया फार्म भरते समय वही आयु मानी जाएगी। कर्मचारी चयन आयोग के चेयरमैन भोपाल सिंह खदरी के अनुसार अभी तक 117 कैटेगरी की परीक्षाएं ली जा चुकी हैं, जिनमें से 86 का डाक्यूमेंटेशन किया जा चुका है।

चेयरमैन ने बताया कि 30 हजार पदों पर भर्ती के लिए सरकार की ओर से अनुरोध पत्र आयोग के पास आ चुके थे। इनमें 21 हजार भर्तियां तृतीय श्रेणी की और नौ हजार भर्तियां चतुर्थ श्रेणी की शामिल हैं। 9343 भर्तियां हम पहले ही रद कर चुके हैं। कुल मिलाकर 40 हजार भर्तियां मौजूदा और 10 हजार अन्य भर्तियों का अनुरोध पत्र जल्द आने की संभावना है, जिसके आधार पर कहा जा सकता है कि आयोग जल्द ही 50 हजार पदों पर नए नियमों के तहत भर्तियां करने जा रहा है।

इसलिए रिजल्ट घोषित करने में हुई देरी, अब बाधा नहीं

हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के चेयरमैन भोपाल सिंह खदरी ने कहा कि रिजल्ट घोषित होने में देरी की वजह धांधली नहीं है। बहुत से युवा ऐसे हैं, जिन्होंने सामाजिक आर्थिक मानदंडों के गलत नंबर हासिल किए। वह पकड़ में आने के बाद उनकी जांच कराई गई। 27 से 31 दिसंबर तक फेक नंबर हासिल करने वालों को अपनी गलती सुधारने का मौका दिया गया। इस दौरान 750 लोगों ने अपनी सहमति से नंबर वापस ले लिए। अन्य भर्तियों में भी फेक नंबर हासिल करने वालों की जांच प्रक्रिया चल रही है। 22 जनवरी के बाद डाक्यूमेंट वैरीफिकेशन का काम पूरा हो जाएगा। उसके बाद रिजल्ट घोषित होने आरंभ होंगे। सबसे पहले पैरामेडिकल स्टाफ की भर्तियों के रिजल्ट घोषित किए जाएंगे।

Edited By: Kamlesh Bhatt