जागरण संवाददाता, पंचकूला : स्वास्थ्य विभाग व आयुष्मान भारत द्वारा यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज डे के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। आयुष्मान भारत योजना को एक साथ पूरे भारत मे लांच किया गया था और फायदे से कोई छूट न जाए। इसी मकसद से कार्यक्रम किया गया। आयुष्मान भारत के तहत 1.80 लाख से कम आय और पांच एकड़ से कम भूमि वाले किसानों को इस योजना में शामिल किया जाएगा। मुख्य अतिरिक्त सचिव राजीव अरोड़ा ने बताया कि अभी तक 73683 मरीजों के उपचार पर 90 करोड़ 58 लाख का क्लेम दे चुके है तथा 31 मार्च तक 25 लाख लोगों को आयुष्मान से जोड़ने का प्रयास करेंगे। यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज डे है जिसका थीम हमने आयुष्मान भारत रखा है। आयुष्मान भारत की शुरुआत हरियाणा के करनाल से की गई थी। हरियाणा सरकार ने अब यह भी तय किया है कि पहले चिह्नित किए गए लाभपात्रों के साथ-साथ जिन राज्य सरकार अपने खर्च और उन परिवारों को भी शामिल करेगी जिनकी वार्षिक आय 1.8 लाख से कम है और तथा जिनके पास पांच एकड़ या इससे कम जमीन है, उन्हें भी इस योजना के तहत कवर किया जा चुका है। सिविल अस्पतालों में बनेंगे विंग्स

योजना का लाभ अधिक से अधिक लोगों को देने की और विभाग द्वारा आने वाले समय मे प्रयास किए जाएंगे। पंचकूला, पानीपत और मेवात में जच्चा-बच्चा 100 बेडेड सेंटर बनाए जाएंगे जो हमारे एग्जिस्टिंग कैंपस के विग्स में बनाए जाएंगे। मेवात में जो मेडिकल कॉलेज हैं, वहां पर यह केंद्र स्थापित किया जाएगा। जबकि पंचकूला और पानीपत में स्थित सामान्य अस्पतालों में यह विग बनाए जाएंगे। देवदूत की तरह काम कर रही योजना

आयुष्मान भारत योजना हरियाणा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. साकेत कुमार ने बताया कि आयुष्मान योजना के अंतर्गत 500 से अधिक अस्पतालों को सूचीबद्ध किया गया है जिसमें 506 निजी व 155 सरकारी अस्पताल हैं। योजना के तहत अधिक से अधिक गरीब लोगों को जोड़कर उन्हें स्वास्थ्य सुविधाएं देकर उनका इलाज करना और गरीबी से बचाना है। गरीब आदमी को यदि एक बार भी बिना किसी सहायता के इलाज करवाना पड़ जाए तो वह कभी भी गरीबी के चंगुल से बाहर नहीं निकल सकता। आयुष्मान योजना आने के पश्चात गरीबों के इलाज के लिए यह योजना देवदूत की तरह कार्य कर रही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस