जेएनएन, चंडीगढ़। हरियाणा में 23 विधायकों को मुख्यमंत्री घोषणा के मुताबिक अपने हलके में पांच करोड़ रुपये के विकास कार्य कराने के लिए फूटी कौड़ी नहीं मिली है। खासकर विपक्ष के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा सहित कांग्रेस के 17 विधायकों को फंड नहीं मिल पाया है। इसी तरह भाजपा-जजपा के चार विधायकों और दादरी के निर्दलीय विधायक के हाथ खाली हैं।

विधानसभा के बजट सत्र में भी यह मुद्दा जोर-शोर से उठ चुका है। मुलाना से कांग्रेस विधायक वरुण चौधरी के सवाल पर सरकार की ओर से लिखित जवाब में बताया गया कि मुख्यमंत्री घोषणा के तहत प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में विधायकों को अपनी पसंद से विकास कार्य कराने के लिए पांच-पांच करोड़ रुपये दिए जाने थे। महज नौ हलके ऐसे हैं जिनमें पांच करोड़ या इससे अधिक राशि खर्च हुई है। सात हलकों में एक करोड़ रुपये से भी कम विकास कार्यों पर खर्च हुए हैं।

हालांकि उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला का दावा है कि अभी तक पांच विधायकों की ओर से पांच करोड़ रुपये की विकास योजनाओं के लिए प्रस्ताव ही नहीं आए हैं। सरकार ने सदन पटल पर लिखित में जो आंकड़े रखे, उनके हिसाब से 90 में से 67 हलकों में ही मुख्यमंत्री की घोषणा को लागू किया गया है।

जिन 67 हलकों में सीएम घोषणा के तहत काम हुए हैं, उनमें से 28 में चार से पांच करोड़ रुपये तक के विकास कार्य हुए हैं। सीएम की इस घोषणा के तहत करीब 239 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। इसमें से विकास एवं पंचायत विभाग ने करीब 198 करोड़ और स्थानीय निकायों ने 36 करोड़ रुपये के काम कराए हैं।

यह भी पढ़ें: हरियाणा के निजी अस्पतालों में रेफर कोरोना मरीजों के इलाज का खर्च नहीं दे रही सरकार, हाई कोर्ट पहुंचा अस्पताल प्रबंधन

गुरुग्राम शहर में इस योजना के तहत पूरे पांच करोड़ रुपये नेशनल हेल्थ मिशन के तहत खर्च हुए हैं। 67 हलकों में जींद अकेला ऐसा हैं, जहां योजना का पैसा गांव और शहर दोनों जगह खर्च हुआ। यहां से भाजपा विधायक डा. कृष्ण मिढा ने करीब पौने पांच करोड़ रुपये के विकास कार्य कराए। इसमें से 3.80 करोड़ रुपये शहर और 94 लाख रुपये गांवों पर खर्च किए।

योजना से वंचित रह गए कांग्रेसी विधायक

  1. पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा (गढ़ी-सांपला-किलोई)
  2. राजेंद्र सिंह जून (बहादुरगढ़)
  3. डा. रघुबीर सिंह कादियान (बेरी)
  4. कुलदीप वत्स (बादली)
  5. नीरज शर्मा (फरीदाबाद एनआइटी)
  6. जगबीर सिंह मलिक (गोहाना)
  7. इंदूराज नरवाल (बरोदा)
  8. बलबीर सिंह वाल्मीकि (इसराना)
  9. गीता भुक्कल (झज्जर)
  10. जयवीर सिंह वाल्मीकि (खरखौदा)
  11. शकुंतला खटक (कलानौर)
  12. मोहम्मद इलियास (पुन्हाना)
  13. बिशनलाल सैनी (रादौर)
  14. चिरंजीव राव (रेवाड़ी)
  15. भारत भूषण बतरा (रोहतक)
  16. रेणु बाला (सढ़ौरा)
  17. प्रदीप चौधरी (कालका के पूर्व विधायक)  

यह भी पढ़ें: गुरमीत राम रहीम व निकिता हत्याकांड में फैसला सुनाने वाले जजों सहित पंजाब-हरियाणा में 176 का तबादला

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप