राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। पंजाब में चल रही कांग्रेस की सियासत के बीच हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने बुधवार को विधायक दल की बैठक बुला ली है। कांग्रेस हाईकमान के कैप्टन अमरिंदर सिंह को किनारे कर देने के कड़े फैसले के बीच हुड्डा के विधायकों की यह बैठक काफी अहम मानी जा रही है।

अनौपचारिक रूप से कांग्रेस विधायक दल की बैठक में हालांकि तीन कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसान संगठनों के आंदोलन समेत जनहित के अन्य मसलों पर चर्चा होनी है, लेकिन मुख्य एजेंडा पंजाब में कांग्रेस हाईकमान के फैसलों से उपजे हालात पर हरियाणा के लिहाज से चर्चा की जानी है। कांग्रेस विधायक दल की बैठक में प्रदेश के राजनीतिक मसलों पर भी चर्चा होगी।

कांग्रेस विधायक दल के नेता भूपेंद्र हुड्डा तीन दिन के प्रवास पर चंडीगढ़ में डेरा डालने वाले हैं। हुड्डा 22 सितंबर को दोपहर तक चंडीगढ़ पहुंच जाएंगे। इसी दिन उन्होंने अपने सेक्टर सात स्थित निवास पर तीन बजे कांग्रेस विधायकों को बुला लिया है। विधायकों को भेजे गए संदेश में हालांकि मीटिंग का एजेंडा साफ नहीं किया गया है, लेकिन हुड्डा भाजपा-जजपा गठबंधन की सरकार के विरुद्ध आंदोलन की रणनीति में बदलाव कर सकते हैं।

उत्तराखंड, कर्नाटक और गुजरात के बाद अब पंजाब में जिस तरह सत्ता परिवर्तन हो रहे हैं और मुख्यमंत्रियों को बदला जा रहा है, उसे लेकर हुड्डा अपनी टीम के साथ विस्तृत चर्चा कर सकते हैं। कांग्रेस हाईकमान ने पंजाब में भारी-भरकम राजनीतिक कद वाले कैप्टन अमरिंदर सिंह को किनारे करने में जरा भी देर नहीं लगाई और दलित कांग्रेस नेता चरणजीत सिंह चन्नी पर दांव खेला है। ऐसे में हुड्डा हरियाणा में अपनी रणनीति बदलें, इसमें कोई संदेह नहीं है, लेकिन हुड्डा के बारे में यह भी कहा जाता है कि शांत स्वभाव के बावजूद वह राजनीति की कोई भी गेम पलटने का मजबूत हुनर रखते हैं।

Edited By: Kamlesh Bhatt