चंडीगढ़ , राज्‍य ब्‍यूरो। Driving License Rules: हरियाणा में अब ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना आसान होगा। राज्‍य सरकार ने इसकी प्रक्रिया आसान की है और इसके लिए नियम में बड़ा बदलाव किया है। हरियाणा सरकार ने अब ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए ड्राइविंग स्‍कूल से ट्रेनिंग सर्टिफिकेट की शर्त को समाप्त कर दिया है। राज्‍य में  ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए ड्राइविंग स्कूल से 21 दिन का ट्रेनिंग सर्टिफिकेट लेना जरूरी नहीं होगा। राज्‍य में अब पहले की तरह लाइसेंस बनाए जाएंगे। परिवहन विभाग ने इस संबंध में राज्‍य के सभी जिला उपायुक्तों और एसडीएम को आदेश जारी कर दिए हैं।

ड्राइविंग स्कूल संचालकों की मनमानी के कारण सरकार ने खत्म की ट्रेनिंग सर्टिफिकेट की अनिवार्यता

बता दें कि करीब डेढ़ महीने पूर्व प्रदेश सरकार ने निर्देश जारी करते हुए हलके वाहनों के लिए ड्राइविंग लाइसेंस लेने की खातिर ड्राइविंग स्कूल से 21 दिन की ट्रेनिंग का सर्टिफिकेट अनिवार्य किया था। इसका फायदा उठाते हुए कई ड्राइविंग स्कूल संचालक सर्टिफिकेट के लिए मनमर्जी की फीस वसूलने लगे थे।

दो से तीन हजार रुपये में बनने वाले लाइसेंस के लिए वसूले जा रहे थे आठ से दस हजार रुपये

ऐसे में दो से तीन हजार रुपये में बनने वाला लाइसेंस आठ से दस हजार रुपये में बन रहा था। इसको लेकर बड़ी संख्या में शिकायतें परिवहन निदेशालय पहुंच रही थीं। इस पर एक्शन लेते ट्रांसपोर्ट कमिश्नर तरफ से हिदायत जारी करते हुए साफ कर दिया गया है कि मोटर व्हीकल एक्ट 1988 के तहत ड्राइविंग स्कूल से ट्रेनिंग सर्टिफिकेट लेना अब जरूरी नहीं होगा।

 अब यह होगा लर्निंग लाइसेंस का शुल्क

           वाहन -                                                      फीस

  • बाइक-स्कूटर रेडक्रास सर्टिफिकेट        =  350 + 300              =  650 रुपये।
  • बाइक-स्कूटर कार रेडक्रास सर्टिफिकेट  = 350 + 300 + 300      = 950 रुपये।
  • बाइक-स्कूटर कार ट्रैक्टर रेडक्रास सर्टिफिकेट = 350 300 300 300 = 1250 रुपये।
  • ---------
  • लाइट व्हीकल लाइसेंस का शुल्क
  • बाइक-स्कूटर रेडक्रास सर्टिफिकेट   -        980+ 300                           =   1280 रुपये।
  • बाइक-स्कूटर कार रेडक्रास सर्टिफिकेट -    980+ 300+ 300                  = 1580 रुपये।
  • बाइक-स्कूटर कार ट्रैक्टर रेडक्रास सर्टिफिकेट- 980+ 300+ 300+300      = 1880 रुपये।

Edited By: Sunil Kumar Jha