जागरण न्यूज नेटवर्क, अमृतसर : समाज में बच्चों को यौन हिसा प्रहार से बचाने के उद्देश्य से जिला कानूनी सेवाएं अथॉरिटी की ओर से पोक्सो एक्ट (बच्चों को यौन हिसा से बचाव एक्ट) जागरूकता शिविर लोक अदालत रानी का बाग स्थित सिडाना इंस्टीट्यूट में लगाई गई।

शिविर में अथॉरिटी के सदस्य डॉ. स्वराज ग्रोवर, डीवी गुप्ता तथा रामेश्वर दत्त शर्मा विशेष रूप से शामिल हुए। डा. ग्रोवर ने बताया कि भारत में हर 15 मिनट में एक बच्चा यौन अपराध का शिकार होता है। यौन अपराध का शिकार बच्चा असहनीय मानसिक व शारीरिक पीड़ा के कारण आत्महत्या कर लेता है। हाल में राज्य सभा ने यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (संशोधन) विधेयक बिल 2019 को मंजूरी प्रदान की है। 2019 का अधिनियम यौन षोषण, यौन उत्पीड़त और पोर्नोग्राफी जैसे अपराधों से बच्चों के संरक्षक का उपबंध करता है। यह कानूनी लैंगिक समानता पर आधारित है। 12 वर्ष से कम बच्चों के साथ यौन अपराधी को फांसी का प्रावधान है। डीवी गुप्ता ने कहा कि यह नियम बच्चों के हित एवं कल्याण को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए उनके शारीरिक, मानसिक और सामाजिक विकास को सुनिश्चित करता है। कार्यक्रम में डा. कनिका व समाज सेवी गुरप्रीत सिंह तथा विद्यार्थी मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस