जागरण संवाददाता, पंचकूला : हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जिला परिषदों को अब गलियों, नालियों तक सीमित नहीं रखा जाएगा, बल्कि बड़े काम करवाए जाएंगे। पंचायती राज के एक्सईएन जिला परिषदों के अंडर काम करेंगे। जिला परिषद देश के बजट के बाद अपना परिषदों का बजट भी पास करें, ताकि वित्तीय स्थिति के हिसाब से विकास कार्य हो सकें। मनोहर लाल ने बुधवार को जिला परिषद, पंचायत समिति, पंचायतों के सदस्यों की बैठक ली। जिसमें 22 जिलों के सदस्यों ने हिस्सा लिया। बैठक में हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला भी मौजूद रहे। मनोहर लाल ने कहा कि जिला परिषद की वित्तीय स्थिति को ध्यान में रखते हुए विकास कार्य हो सकते हैं। प्रदेश में कुछ सीमाएं थी, लेकिन अब यह फैसला किया है कि जो ग्रांट देनी है, उनकी संख्या और सीमा के हिसाब वित्तीय क्षमताएं बढ़ाई जा रही हैं। उनको स्वायतत्ता दी गई है कि किस विभाग के जरिये कितनी राशि खर्च करें। इससे पहले नगर निगम, नगर परिषद, नगर पालिका को अधिक अधिकार देने के लिए बैठकें हो चुकी हैं। इस बैठक में हरियाणा पंचायती राज्य की समितियों के सदस्यों के साथ कई मुद्दों पर चर्चा की गई। जिसमें फंड, फंक्शंस और पंचायती राज संस्थान में 5वां राज्य वित्त आयोग (एसएफसी) की सिफारिशों के अनुसार अधिकारियों के हस्तांतरण की स्थिति पर चर्चा हुई। भारत सरकार और हरियाणा सरकार के विभिन्न प्रमुख कार्यक्रमों की प्रगति की समीक्षा की। पंचायती राज संस्थान के विकास की जरूरतों का आंकलन और शक्तियों पर प्रतिनिधियों ने अपने सुझाव रखे। हरियाणा का बजट इस बार बढि़या होगा

बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत में मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा का बजट इस बार बढि़या होगा। बजट प्रदेश की जरूरतों व योजनाओं का बजट होगा। दिल्ली चुनावों पर बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि काम पर जनता वोट देती है, लेकिन कभी-कभी काम को साइड पर रखकर जनता बहकावे में आ जाती है, जिसका उदाहरण दिल्ली चुनाव है। कुछ लोगों को बहकाने की कला आती है, जनता बहकावे में आ जाती है। कभी न कभी जनता उसमें समझदारी से आगे बढ़ेगी और इसमें से बाहर निकलेंगे, जिसके बाद काम की वेल्यू पड़ेगी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजेश खुल्लर भी मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस