जेएनएन, चंडीगढ़। राजस्थान और पंजाब में तबाही मचाने के बाद पाकिस्तान से आया टिड्डी दल अब किसी भी समय हरियाणा में हमला बोल सकता है। टिड्डी दल से निपटने के लिए प्रदेश सरकार ने अलर्ट घोषित करते हुए सुपरविजन टीमें गठित की हैं। किसानों को 50 फीसद अनुदान पर कीटनाशक दिए जाएंगे।

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जय प्रकाश दलाल ने किसानों से आह्वान किया कि वे खेतों का निरीक्षण करें। कहीं पर भी टिड्डी दिखने पर तत्काल स्थानीय कृषि विकास अधिकारी, हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, कृषि विज्ञान केंद्र या उप कृषि निदेशक व कंट्रोल रूम को सूचना दें। टिड्डी दल को खेत में आने से रोकने के लिए तेज आवाज वाले उपकरणों की व्यवस्था की जाए। टिड्डी दल पर नियंत्रण के लिए किसानों को प्रशिक्षण देना शुरू कर दिया गया है। जरूरत के हिसाब से दवाओं की व्यवस्था की जा रही है और किसी तरह से घबराने की जरूरत नहीं है।

हैफेड, हरियाणा कृषि उद्योग निगम, हरियाणा बीज विकास निगम और हरियाणा भूमि सुधार विकास निगम के जरिये क्लोरपायरीफॉस 20 प्रतिशत ईसी और क्लोरपायरीफॉस 50 प्रतिशत ईसी के स्टॉक की व्यवस्था की गई है, ताकि किसानों को सब्सिडी पर दवा उपलब्ध कराई जा सके। इसके अलावा किसान बेंडियोकार्ब, डेलटामीथ्रिन, फिप्रोनिल, लैंब्डा और मैलाथिऑन कीटनाशक दवा का भी प्रयोग कर सकते हैं।

कृषि मंत्री ने कहा कि राजस्थान व पंजाब से लगते सिरसा, फतेहाबाद, हिसार के अलावा भिवानी, महेंद्रगढ़, रेवाड़ी व चरखी दादरी जिलों व आसपास के क्षेत्र में टिड्डी दल से निपटने की तैयारी की जा रही है। कृषि विभाग के टोल फ्री नंबर 18001802117 पर भी किसानों को टिड्डी दल से बचाव के बारे में जानकारी दी जा रही है। इसके अलावा चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय, हिसार द्वारा भी किसान जागरूकता एवं बचाव संबंधी कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं।

किसानों को जागरूक करेंगे तीन महकमे

राजस्व, कृषि एवं किसान विभाग व पंचायती राज विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे टिड्डी दल के बारे में किसानों को जागरूक करें। पंजाब के फाजिल्का से हरियाणा का फतेहाबाद महज 200 किलोमीटर दूर है। टिड्डियों के उडऩे की स्पीड करीब 15 किलोमीटर प्रति घंटे की होती है। इसलिए कभी भी टिड्डियों का हमला हो सकता है। टिड्डी एक बहुभक्षी कीट है जो सभी प्रकार की वनस्पति को खाकर नुकसान पहुंचाती है। टिड्डी दल रात को फसल पर बैठती है और देखते ही देखते उसे चट कर जाती है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस