राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। Haryana Recruitment:  हरियाणा में सरकारी नौकरियों में ग्रुप सी के रिक्त पदों को भरने के लिए संयुक्त पात्रता परीक्षा (सीईटी) की तैयारियां जोर पकड़ गई हैं। हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग अगले महीने यह परीक्षा आयोजित करेगा। अभी तक पोर्टल पर करीब 11 लाख बेरोजगार युवा पंजीकरण कर चुके हैं। ऐसे में सरकार ने सभी उपायुक्तों को अतिरिक्त परीक्षा केंद्र बनाने के लिए स्थान चिन्हित करने के निर्देश दिए हैं।

अगले महीने होनी है , मुख्य सचिव ने उपायुक्तों को दिए कार्ययोजना बनाने के निर्देश

पिछले कुछ वर्षों में पेपर लीक के दर्जनों मामले सामने आने के कारण सरकार निजी संस्थानों की जगह सरकारी संस्थानों में भर्ती परीक्षाएं कराने को तरजीह देती रही है। चूंकि ग्रुप सी की नौकरी के लिए 11 लाख युवा दौड़ में हैं, ऐसे में कर्मचारी चयन आयोग को निजी स्कूलों में भी परीक्षा केंद्र बनाने पड़ेंगे।

मुख्य सचिव संजीव कौशल ने परीक्षा की तैयारियों को लेकर सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये जिला उपायुक्तों को इस संबंध में निर्देश भी दिए। सरकारी स्कूलों के साथ ही निजी स्कूलों, स्टेट, सेंट्रल व निजी विश्वविद्यालयों तथा अन्य सरकारी शिक्षण संस्थाओं में परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे।

रिकार्ड युवाओं की दावेदारी से बनाने पड़ेेंगे अतिरिक्त परीक्षा केंद्र, स्थान चिन्हित करने में जुटे डीसी

मुख्य सचिव ने जिला उपायुक्तों को निर्देश दिया कि परीक्षा के सफल आयोजन के लिए कार्य योजना बनाएं। आवेदकों की संख्या को देखते हुए उपायुक्त अपने जिले में परीक्षा केंद्रों की संख्या बढ़ाते हुए उनका चयन करें। वहीं, पोर्टल पर वन टाइम पंजीकरण नहीं कराने वालों को युवाओं को एचएसएससी ने आठ जुलाई तक रजिस्ट्रेशन कराने का मौका दिया है। 13 जुलाई तक फीस जमा हो सकेगी।

15 जुलाई के बाद आयोग सीईटी की तिथि तय करेगा। परीक्षा में सामान्य श्रेणी के युवाओं को न्यूनतम 50 प्रतिशत और आरक्षित कैटेगरी के युवाओं को न्यूनतम 40 प्रतिशत अंक लेना जरूरी है। इन अंकों में सामाजिक आर्थिक मानदंड के अंक जुड़ेंगे जिसके बाद सीईटी का स्कोर तय होगा।

इस स्कोर के अनुसार हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग विज्ञापति पदों से चार गुना उम्मीदवारों को मेरिट के अनुसार बुलाएगा। जिन उम्मीदवारों के कट आफ मार्क्स से नीचे नंबर होंगे, उन्हें बुलाया नहीं जाएगा और वे रह जाएंगे। इस तरह उनके अंक ज्यादा होने के बावजूद वे भर्ती के लिए योग्य नहीं होंगे। इतना ही नहीं, सफल अभ्यर्थियों को दूसरी लिखित परीक्षा में भी इसी प्रक्रिया से गुजरना होगा।

सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों को लिखित परीक्षा में 50 प्रतिशत और आरक्षित कैटेगरी के युवाओं को न्यूनतम 40 प्रतिशत अंक लेने होंगे। फिर उसमें सामाजिक आर्थिक मानदंड के आधे अंक जुड़ेंगे और मेरिट व कैटेगरी अनुसार चयन सूची जारी होगी।

हरियाणा  की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें   

Edited By: Sunil Kumar Jha