मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जेेेेएनएन, चंडीगढ़। हरियाणा की राजनीति में मंगलवार देर शाम हुए एक अप्रत्याशित घटनाक्रम में भतीजे दुष्यंत चौटाला ने चाचा अभय सिंह चौटाला का तख्तापलट कर दिया। पूर्व सांसद दुष्यंत चौटाला जननायक जनता पार्टी के संरक्षक हैं, जबकि अभय सिंह चौटाला इनेलो विधायक दल के नेता। विधानसभा के मानसून सत्र के बाद जजपा समर्थक चारों विधायकों ने एक बैठक कर अभय सिंह चौटाला को इनेलो विधायक दल के नेता पद से हटा दिया।

राजदीप फौगाट को इनेलो विधायक दल का नया नेता चुना गया है, जबकि विधायक अनूप धानक को चीफ व्हिप बनाया गया है। इस बैठक में राजदीप फौगाट, अनूप धानक, दुष्यंत चौटाला की माता नैना सिंह चौटाला और पिरथी नंबरदार के शामिल होने का दावा करते हुए फैसले से विधानसभा सचिवालय को भी अवगत करा दिया गया है।

विधानसभा अध्यक्ष के नाम भेजी गई चिट्ठी में अनूप धानक ने कहा कि अब समस्त विधायी कार्यों और पत्राचार में राजदीप फौगाट व उन्हें शामिल किया जाए। विधानसभा सचिवालय को मंगलवार शाम सात बजकर 22 मिनट पर चिट्ठी प्राप्त हुई है। इनेलो राज्य का प्रमुख विपक्षी दल था, लेकिन पारिवारिक लड़ाई के कारण इसमें विघटन पैदा हो गया। इनेलो के पास कभी 19 विधायक हुआ करते थे। दो विधायकों डा. हरिचंद मिढा तथा स. जसविंद्र सिंह संधू का देहावसान हो गया, जबकि 10 विधायक भाजपा में शामिल हो चुके हैं। वहीं चार विधायक जजपा का समर्थन कर रहे हैं। अभय सिंह चौटाला के साथ अब विधायक वेद नारंग और ओमप्रकाश बड़वा बचे हैं। इस पूरे घटनाक्रम पर अभी विधानसभा स्पीकर और अभय सिंह चौटाला की टिप्पणी आनी बाकी है।

दरअसल, इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला ने ताऊ देवीलाल के जयंती समारोह में हूटिंग करने का आरोप लगाते हुए दुष्यंत चौटाला को पार्टी से निष्कासित कर दिया था। इसके बाद दुष्यंत ने अपने पिता अजय सिंह चौटाला के साथ अलग जननायक जनता पार्टी बना ली थी। तब से चाचा-भतीजे में राजनीतिक तलवारें तनी हुई हैं।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप