संवाद सहयोगी, होडल: लगभग 80 हजार की आबादी वाले शहर की जनता को स्वास्थ सेवाएं देने वाला एकमात्र सरकारी अस्पताल अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है। इस अस्पताल में न तो डाक्टरों की कोई व्यवस्था है और नही जेनरेटर की कोई व्यवस्था है। रात के समय अगर बिजली गुल हो जाती है तो पूरा अस्पताल अंधेरे में डूब जाता है। इसके अलावा अधिक समय तक अगर बिजली गुल होती है तो अस्पताल में लगे इनवर्टर भी ठप हो जाते हैं, जिसके कारण मरीजों के साथ-साथ डाक्टरों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। हालांकि यहां तैनात कर्मचारियों द्वार इस मामले से कई बार विभागीय उच्चाधिकारियों को अवगत भी कराया जा चुका है, लेकिन समस्या ज्यों कि त्यों बनी हुई है।

अस्पताल में रोजाना लगभग 300 से अधिक मरीज अपने स्वास्थ्य की जांच कराने पहुंचते हैं। आजकल पड़ रही भीषण गर्मी के दौरान अस्पताल में बिजली गुल होने के बाद यहां भर्ती मरीजों की हालत देखने लायक होती है। गर्मी से बचाव के लिए मरीजों के परिजनों को अपने साथ ही हाथ के पंखे आदि की व्यवस्था करनी पड़ती है। इतना ही नहीं यह अस्पताल डाक्टरों का अभाव पहले से ही झेलता आ रहा है। महिला डाक्टर का पद तो पिछले काफी समय से रिक्त पड़ा हुआ है, जिसके कारण महिला रोगियों को पुरुष डाक्टरों से उपचार कराने को मजबूर होना पड़ता है।

---------

अस्पताल में न तो समय पर डॉक्टरों की सुविधा मिलती है और न ही यहां बिजली आदि की कोई व्यवस्था है। बिजली जाते ही पूरा अस्पताल अंधेरे में डूब जाता है। यहां भर्ती मरीजों का गर्मी के कारण बुरा हाल हो जाता है।

- बिमला देवी

--------

अस्पताल में जेनरेटर की व्यवस्था नहीं होने के कारण बिजली जाने के बाद यहां अंधेरा छा जाता है। आजकल गर्मी के मौसम में तो बिजली कटौती भी ज्यादा होती है, जिसके कारण इनवर्टर भी ठप हो जाते हैं।

- मुखनदत्त

--------

अस्पताल में जेनरेटर की मांग तो पहले भी कई बार उठाई जा चुकी है, लेकिन समस्या का कोई समाधान नहीं हो सका है। बिजली गुल होने के बाद रात के समय तो अस्पताल पूरी तरह अंधेरे में डूब जाता है।

- मुकेश तिवारी

--------

अस्पताल में जेनरेटर और डाक्टरों की व्यवस्था के लिए उच्चाधिकारियों को अवगत कराया जा चुका है। हालांकि मरीजों की सुविधा के लिए अस्तपाल में इनवर्टर की व्यवस्था है, लेकिन अधिक देर तक बिजली गुल होने के बाद वह भी ठप हो जाते हैं।

- डॉ.चरण गोपाल, चिकित्सा अधिकारी

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप