जागरण संवाददाता, पलवल: पलवल-अलीगढ़ रोड को केजीपी एक्सप्रेस-वे से जोड़ने के लिए इंटरचेंज बनाने का कार्य आगामी एक माह में शुरू नहीं किया तो क्षेत्रवासी आदोलन की राह पकड़ेंगे। केजीपी पर इलाके के किसानों व लोगों के साथ मिलकर एक बड़े स्तर पर धरना शुरू किया जाएगा। पिछले लंबे समय से इंटरचेंज को लेकर सिर्फ दावे किए जा रहे हैं। उक्त बातें पूर्व मंत्री करण सिंह दलाल ने शनिवार को विश्राम गृह में आयोजित पत्रकार वार्ता में कही।

पूर्व मंत्री दलाल ने कहा कि क्षेत्र के लोगों ने गदपुरी टोल प्लाजा पर धरना देकर एनएचएआइ, टोल कंपनी व सरकार को झुकने पर मजबूर कर दिया। इसी का नतीजा है कि टोल के साथ लगते तीन किलोमीटर के अंतर्गत आने वाले पाच गावों के वाहन पूरी तरह से निश्शुल्क निकलेंगे। आज टोल पर 20 किलोमीटर तक के गावों का जो 315 रुपये का पास था, आज वह 200 रुपये में बनाया जा रहा है। गदपुरी गाव के विकास के लिए जमीन अधिग्रहण होने से पहले कंपनी द्वारा 25 लाख रुपये से अधिक के विकास कार्य पर खर्च किए जाएंगे। बघौला, मुंडकटी में पुल बनाया जाएगा और बल्लभगढ़ रेलवे लाइन के ऊपर अब चार लेन के बजाय छह लेन का पुल बनेगा। वहीं टोल प्लाजा के साथ बने आरोही माडल स्कूल के बच्चों को सड़क पार कराने के लिए फुट ओवर ब्रिज बनाया जाएगा।

दलाल कहा कि गदपुरी टोल के मामले में जो पंचायत का फैसला था वो मानने योग्य है, मगर वह पलवल में बनाए गए चार लेन एलिवेटेड फ्लाईओवर के मामले को लेकर अदालत में जाएंगे। यह फ्लाईओवर नियम अनुसार छह लेन का होना चाहिए। उन्होंने कहा कि चार लेन का फ्लाईओवर बनने के कारण आगामी समय में फिर से शहर को जाम की समस्या से जूझना पड़ेगा, इसके लिए शहर में बाईपास का निर्माण होना चाहिए।

दलाल ने कहा कि यदि कोई और नेता लोगों के साथ हो रही ज्यादतियों के खिलाफ आदोलन करता है और पलवल व फरीदाबाद क्षेत्र के लोगों के हक की लड़ाई लड़ता है तो हम उसका पूरा सहयोग करेंगे।

उन्होंने कहा कि टोल पर हुई सहमति के अनुसार कार्य नहीं हुआ और सुविधा नहीं दी गई तो दोबारा आदोलन किया जाएगा। इस अवसर पर उनके साथ राजेश्वर गर्ग व एसके शर्मा विशेष रूप से मौजूद रहे।

Edited By: Jagran