संवाद सहयोगी, पलवल: गांव बढा में आयोजित वेद प्रचार कार्यक्रम में जब एक उपदेशक शराब व अन्य सामाजिक बुराइयों के खिलाफ जनजागरण कर रहे थे तो शराब के नशे में आए कुछ लोगों ने कार्यक्रम में न केवल व्यवधान डाला, बल्कि धमकियां भी दीं। बाद में गांव के लोगों ने इन नशेबाजों को कार्यक्रम से लताड़ कर भगा दिया। नशेड़ियों का कहना था कि वे शराब या नशे के खिलाफ एक शब्द नहीं सुनेंगे।

जिला वेद प्रचार मंडल के तत्वावधान में गांव बढा में वेद प्रचार आपके द्वार यात्रा के दौरान शाम के समय कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। यज्ञ के पश्चात उपदेशक संदीप आर्य नशे के खिलाफ भजन तथा प्रवचन कर रहे थे। उनका कहना था कि नशा बर्बादी की जड़ है। नशे में न जाने कितने ही परिवारों को बर्बाद कर दिया। नशा बल, बुद्धि, विद्या तथा आयु का नाश करता है। वे प्रवचन कर ही रहे थे कि नशेबाजों ने धाबा बोल दिया। कुछ देर तो शोर-शराबे के मध्य यही समझ नहीं आया कि क्या हो रहा है। जैसे ही लोगों को यह पता लगा कि व्यवधान डालने वाले नशेबाज हैं, तो उन्होंने उन्हें लताड़ कर भगा दिया तथा बाद में लोगों ने आराम से सत्संग किया।

इस अवसर पर कुटी वाले मंदिर पर यज्ञ किया गया। कार्यक्रम में हीरालाल आर्य, दीपराम, रणवीर ¨सह, पृथ्वी ¨सह पहलवान, रिछपाल ¨सह, चतर ¨सह, अमर ¨सह फौजी, मनोज महाराज, जगराम दास मौजूद थे। वक्ताओं ने शुद्ध आहार अपनाने पर जोर दिया।

Posted By: Jagran