संवाद सहयोगी, होडल : एसडीएम प्रीति का तबादला होते ही एक बार फिर से बाजार में अतिक्रमणकारियों के हौसले बुलंद हो गए हैं। दुकानदारों ने फिर से दुकानों के सामने तख्त आदि लगाकर अतिक्रमण शुरू कर दिया है। रेहड़ी व पटरी वालों ने भी फिर से अपनी जगह ले ली है। अन्य अधिकारी भी चुप्पी साधे हुए हैं।

तत्कालीन एसडीएम प्रीति ने बाजार में अक्सर लगने वाले जाम से निपटने के लिए काफी प्रयास किए थे। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को साथ लेकर अतिक्रमण करने वालों की वीडियोग्राफी कराई थी और अतिक्रमण करने वालों के चालान काटने की कार्रवाई शुरू करवाई थी। उसके बाद कहीं हद तक अतिक्रमण पर अंकुश लग गया था।

हाल ही में एसडीएम प्रीति का तबादला हो गया था, जिसके तुरंत बाद से दुकानदारों ने अतिक्रमण शुरू कर दिया। आलम यह है कि मेन बाजार में तो अतिक्रमण के कारण करीब 25 फुट चौड़ी सड़क मात्र तीन फुट रह गई है, जिसके चलते यहां पूरे दिन जाम की स्थिति बनी रहती है और लोगों को पैदल निकलना भी दूभर हो जाता है। दुकानदार दुकान के अंदर कम और बाहर तख्तों पर ज्यादा सामान रखते हैं। यदि कोई व्यक्ति दुकानदारों को टोकता है तो झगड़े पर उतारू हो जाते हैं।

-------

बाजार में अतिक्रमण के कारण पूरा दिन जाम की स्थिती बनी रहती है, जिसके कारण यहां घंटों तक जाम में फंसने को मजबूर होना पड़ता है। जाम में स्कूली वाहन, एंबुलेंस व प्रशासनिक अधिकारियों के वाहन भी घंटों तक फंसे रहते हैं।

- सुरेंद्र सौरोत

------

पुरानी जीटी रोड पर अतिक्रमण के कारण आए दिन जाम की स्थिती बनी रहती है। बाजार में वाहनों की लंबी लाईन लग जाती है। अतिक्रमणकारियों के खिलाफ कुछ दिन पहले अभियान चलाया गया था, परंतु अब पहले जैसी स्थिति हो गई है।

- राजेंद्र

----

बाजार में समय-समय पर अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया जाता है। कुछ दिन पहले ही अभियान चलाया था और परिषद द्वारा नोटिस भी जारी किए गए थे। अगर कोई दुकानदार कानून की अवहेलना कर सरकारी भूमि पर अतिक्रमण करता है तो उसके खिलाफ पालिका एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी।

- मनेंद्र ¨सह, कार्यकारी अधिकारी, नगर परिषद होडल

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप