संवाद सहयोगी, होडल: हसनपुर रेलवे क्रा¨सग पर करोड़ों रुपये की लागत से बनाया गया रेलवे ओवर ब्रिज शाम होते ही अंधेरे में डूब जाता है। पुल पर प्रशासन द्वारा स्ट्रीट लाईट के खंभे तो खड़े कर दिए गए हैं, लेकिन वर्षों बीतने के बाद भी उक्त खबों पर बल्ब नहीं लगाए गए हैं। अंधेरा होने के कारण यहां असामाजिक तत्वों का बोलबाला रहता है। कई बार तो उक्त पुल पर लूटपाट और फाय¨रग जैसी आपराधिक वारदातें भी हो चुकी हैं, लेकिन इसके बाद भी प्रशासन की आंखें नहीं खुली हैं।

आसपास की कालोनी के लोगों द्वारा इस मामले में कई बार विभागीय अधिकारियों को शिकायत भी की जा चुकी है, लेकिन अधिकारी इस मामले में जरा भी गंभीर नहीं हैं। होडल से बेढ़ा पट्टी, खिरबी, विजयगढ, भिडूकी, भैंडोली, रामगढ, सहनोली, हसनपुर सहित अन्य दर्जनों गावों में आने जाने के लिए हसनपुर चौक ही मुख्य रास्ता है। लोगों की मांग पर प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार द्वारा कई वर्ष पहले हसनपुर रेलवे क्रा¨सग पर पुल का निर्माण कराया था। लोक निर्माण विभाग द्वारा तैयार किए गए उक्त पुल पर रोशनी के लिए बिजली के दर्जनों खंभे भी लगा दिए गए थे, लेकिन उनमें बल्ब आज तक नहीं लगाए हैं और न ही बिजली कनेक्शन लिया है।

उक्त पुल से रोजाना हजारों वाहनों का आवागमन होता है। सांय होते ही उक्त पुल अंधेरे में डूब जाता है और यहां असामाजिक तत्वों और शराबियों का जमघट लगा रहता है। कालोनी निवासी खेमचंद, रामनिवास, खिच्चू, भूदत्त, प्रवीन, डालचंद आदि का कहना था कि पुल पर अंधेरा रहने से हर समय हादसे का भय बना रहता है। असामाजिक तत्व अंधेरा होते ही पुल पर मंडराने लगते हैं। मामले में बार बार विभागीय अधिकारियों को अवगत कराया जा चुका है, लेकिन समस्या का कोई समाधान नहीं हो सका है। अब लोगों ने इस मामले की शिकायत केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर को भेजी है।

-----------

समाप्त

चंद्रप्रकाश गर्ग

30 अप्रैल-19

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप