संवाद सहयोगी, हथीन: क्षेत्र में हो रही बारिश बुखार से पीड़ित गांवों के लिए परेशानी का सबब बन सकती है क्योंकि क्षेत्र के गांवों में पहले ही सफाई व्यवस्था चरमराई हुई है। इस बारिश से गांवों में गंदगी व जलभराव से मच्छरों की तादाद में इजाफा होता दिखाई दे रहा है।

बता दें कि पिछले एक माह से हथीन क्षेत्र के चिल्ली, छांयसा, मालपुरी, भंगूरी, हथीन, खिल्लूका, रुपडाका, स्वामीका, जरारी, मंढनाका, मठेपुर में बुखार प्रकोप जारी है। इन सभी गांवों में जलभराव के कारण वायरल बुखार चरम पर है। उपरोक्त गांवों में बुखार के चलते कई बच्चे मौत के मुंह में समां चुके हैं। दरअसल, क्षेत्र के गांवों में जब से पंचायतों का कार्यकाल खत्म हुआ है तभी से सफाई व्यवस्था का बुरा हाल है। गांवों में जगह-जगह गंदगी के ढेर लगे हुए हैं। हालात यह हैं कि कई-कई दिनों तक सफाई नहीं होती। स्वास्थ्य विशेषज्ञों की मानें तो बरसात व गंदगी के कारण वायरल व संक्रमित रोगों की आशंका कुछ ज्यादा ही होती है इसलिए लोगों को अपने बचाव के लिए खुद ही प्रयास करने होंगे ताकि मौसमी बीमारियों से बचा जा सके। लोग घरों व आसपास के एरिया में सफाई रखें। हो सके तो ऐसे मौसम में उबला पानी पिएं। बीमार होने पर सरकारी अस्पताल में जांच कराएं ताकि बीमारियों से बचा जा सके।

--डा विजय कुमार, एसएमओ हथीन हमने सभी ग्राम सचिवों से कहकर गांवों में सफाई कर्मियों को मुस्तैद किया है। नियमित रूप से सफाई कर्मी सफाई करें। गांव के लोग भी गंदगी ना फैलाएं।

-- अतर सिंह, समाज शिक्षा एवं पंचायत अधिकारी हथीन

Edited By: Jagran