संवाद सहयोगी, नगीना: नवनियुक्त सिविल सर्जन द्वारा जिला अस्पताल अल आफिया मांडीखेड़ा में मौजूद सिविल सर्जन कार्यालय को नूंह मुख्यालय पर स्थापित करने की कोशिश पर मेवात विकास सभा ने नाराजगी जताई है। चेतावनी दी है कि यदि कार्यालय बदला गया तो लोगों को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। मांडीखेड़ा गांव बिल्कुल नगीना से सटा है यहां से नूंह, पुन्हाना और फिरोजपुर झिरका की दूरी बराबर पड़ती है।

मेवात विकास सभा के प्रधान सलामुद्दीन एडवोकेट बताते हैं कि सिविल सर्जन ने अपने ऑफिस को रेडक्रॉस भवन में ले जाने के लिए निरीक्षण किया। इसके अलावा सचिवालय और अन्य जगहों को देखा है। जिससे सिविल सर्जन एवं स्वास्थ्य विभाग का इरादा ऑफिस बदलने का है। उन्होंने कहा कि अभी केवल एक चेतावनी दी है अन्यथा मेवात विकास सभा व अन्य संगठनों के लोग सड़कों पर प्रदर्शन करेंगे। इसकी जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी।

वहीं रमजान चौधरी एडवोकेट, आसिफ अली चंदेनी, रियाजुद्दीन, मौलाना मोहम्मद मुफ्ती रफीक अहमद ने बताया कि मांडीखेड़ा जिले के बीच में है यहां जिला अस्पताल बना हुआ है। अगर सीएमओ मांडीखेड़ा नहीं बैठेंगे तो जिला अस्पताल का बेड़ा गर्क हो जाएगा। मांडीखेड़ा से नूंह की दूरी केवल बीस किलोमीटर की है। इधर, महिला संगठन जागो चलो ने सिविल सर्जन कार्यालय बदलने की मंशा पर एक पत्र स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को भेजा है।

- जिला प्रशासन की बैठकें नूंह में होती हैं और आने-जाने में दिक्कत होती है। इसलिए नूंह में कार्यालय के लिए जगह देखी है अभी तक फैसला नहीं किया है। वैसे मांडीखेड़ा भी दूर नहीं है। कार्यालय बदलने का फैसला नहीं है।

- डॉ. वीरेंद्र यादव, सिविल सर्जन नूंह।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस