संवाद सहयोगी, फिरोजपुर झिरका। खूनी हाईवे के नाम से मशहूर हो चुके गुरुग्राम-अलवर हाईवे पर बुधवार सुबह एक कार और मोटरसाइकिल की आमने-सामने की भिडंत हो गई। हादसे में पति-पत्नी सहित उनके छह वर्षीय बच्चे की मौत हो गई। हादसा गांव भादस में घटित हुआ।

सिंगल रूट हाईवे पर आए दिन हो रहे हादसे

इस दुर्घटना में इनका एक बच्चा अभी मौत और जिंदगी की झूला से अस्पताल में झूल रहा है। उधर सिंगल रूट गुरुग्राम-अलवर हाईवे पर आए दिन हो रहे सड़क हादसों से जहां क्षेत्र के लोगों में दहशत व्याप्त है, वहीं लोगों में गहरा रोष भी बना हुआ है। दरअसल इस सड़क पर वाहनों का दबाव अधिक है।

यातायात ज्यादा होने से इसपर आए दिन कोई न कोई हादसा होता रहता है। हाईवे पर होते हादसों को देखते क्षेत्र के लोगों द्वारा पिछले दो दशकों से इस मार्ग को फोरलेन करने के लिए संघर्ष किया जा रहा है। किन्तु सरकार इसपर ध्यान नहीं दे रही है।

जानकारी के अनुसार राजस्थान के रहने वाला एक अपनी पत्नी व दो छोटे बच्चों को लेकर नूंह की तरफ जा रहा था। इसी दौरान जब वो भादस की तरफ पहुंचे तो सामने से आई एक तेज रफ्तार कार ने उनकी बाइक में सीधे टक्कर मार दी। इस हादसे में बाइक चला रहे व्यक्ति और उसके छह वर्षीय बच्चे की मौके पर ही मौत हो गई जबकि उसकी पत्नी ने उपचार के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया। इनका एक बच्चा गंभीर रूप से घायल है।

Mewat News: दिल्ली के टैक्सी चालक की लूट के बाद अलवर में हत्या, मेवात के हत्यारों ने रची थी साजिश

वहीं सड़क दुर्घटना को अंजाम देकर चालक कार को छोड़कर मौके से फरार हो गया। पुलिस ने शव को कब्ज में लेकर उन्हें मोर्चरी में रखवा दिया है। उधर हादसे को लेकर क्षेत्र में मातम का माहौल है। लोग कह रहे हैं कि इस सड़क पर आए दिन कोई न कोई मासूम अपनी जान गंवा रहा है।

इस सड़क को फोरलेन करवाने के लिए पैदल मार्च से लेकर सांकेतिक धरना तक दिया गया, लेकिन सरकार के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी। पुलिस के अनुसार हादसे में जान गवाने वाले सभी लोग राजस्थान के हैं। पुलिस द्वारा इसकी सूचना स्वजनों को दे दी गई है।

Edited By: Abhishek Tiwari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट