फिरोजपुर झिरका, नूंह-मेवात [अख्तर अलवी]। बुधवार की दोपहर गुरुग्राम-अलवर हाइवे पर एक फिर सडक़ हादसा घटित हुआ। इस बार हादसा यातायात पुलिस के वाहन से हुआ, जहां बाइक पर सवार तीन लोग पुलिस के वाहन के नीचे आ गए। इसमें बाइक पर सवार तीन जनों में से दो महिलाओं की दर्दनाक मौत हो गई। जबकि पुलिसकर्मियों समेत कुल चार लोग घायल हो गए। दुर्घटना के पश्चात गुस्साए ग्रामीणों ने हाइवे पर जाम लगाकर पुलिस के वाहन में तोड़फोड़ कर उसे क्षतिग्रस्त कर दिया। जाम की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने लोगों को समझाकर किसी तरह जाम को खुलवा दिया। पुलिस ने मृतक महिलाओं की पहचान हसवती (48) पत्नी कन्हैया लाल, रजनी (22) निवासी मोहम्मदबास थाना फिरोजपुर झिरका के रूप में हुई है।

मिली जानकारी के अनुसार बुधवार को विजय, हसवती और रजनी निवासी मोहम्मदबास नौगांव राजस्थान से रिश्तेदारी में होकर अपनी बाइक से घर की ओर लौट रहे थे। इसी बीच जब वो दोहा चौक पर पहुंचे तो बराबर से एक बाइक उनकी बाइक से टच होते हुए निकली। इसी के चलते बाइक का संतुलन बिगड़ गया जिससे बाइक पर सवार तीनों शख्स सड़क पर गिर गए। इसी दौरान पीछे से आ रही यातायात पुलिस के वाहन के नीचे बाइक सवार आ गए। इसमें दो महिलाओं की मौके पर मृत्यु हो गई, जबकि तीसरा घायल हो गया।

दुर्घटना से पहले जिस गांव से ये महिलाएं लौट रही थी उस गांव के लोग दोहा चौक पर पहुंच गए जहां उन्होंने रोड पर जाम लगा दिया। जाम लगाकर बैठे गुस्साए लोगों को समझाने तथा तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए जिले के तावडू, नूंह, नगीना, पुन्हाना, पिनगवां और चांदडाका पुलिस को मौके पर बुलाया गया। इसके अलावा हालत पर नियंत्रण पाने के लिए पुन्हाना के डीएसपी शमशेर सिंह भी मौके पर पहुंचे। भीड़ के बीच फंसे यातयात पुलिस के जवानों को सुरक्षित बाहर निकालकर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।

दोहा चौक के बाद मोहम्मदबास में भी लगाया जाम

सड़क हादसे से गुस्साए लोगों ने जहां दोहा चौक पर जाम लगा दिया। वहीं, महिलाओं के परिजनों ने गांव मोहम्मदबास में भी जाम लगा दिया। करीब डेढ़ घंटे दोहा चौक पर जाम को खुलवाने के बाद पुलिस मोहम्मदबास पहुंची जहां पुलिस के आलाधिकारियों ने परिजनों को समझाकर जाम को खुलवा दिया।

आखिर कब तक मरते रहेंगे लोग

सिंगल रूट गुरुग्राम-अलवर हाइवे पर आए दिन होते हादसों से क्षेत्र के लोग भयभीत हैं। मंगलवार की रात इसी मार्ग पर राजस्थान पुलिस के एक जवान सहित दो लोगों की दर्दनाक मौत हो गई थी। प्रतिदिन होते हादसों से दुखी क्षेत्र के लोग उपरोक्त सड़क के चौड़ीकरण की मांग कर रहे हैं। मेवात कारवां के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. असफाक आलम, मेवात विकास सभा के प्रधान सलामूदीन एडवोकेट, समाजसेवी उमर पाड़ला आदि का कहना है कि यहां हो रहे सड़क हादसे सीधे सीधे हत्या है। क्षेत्र के लोग रोज रोज होते हादसों से तंग आकर सिंगल रूट सड़क को फोरलेन करने की मांग कर रहे हैं। लेकिन, सरकार इसपर ध्यान नहीं दे रही है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप