संवाद सहयोगी, फिरोजपुर झिरका : फिरोजपुर झिरका नगर पालिका के अंतर्गत चल रहे विकास कार्यो को लेकर शहरवासियों को उस समय झटका लगा, जब शहर के विकास में चार चांद लगाने वाले करीब एक करोड़ 70 लाख रुपये के टेंडरों को तीन महीने बाद नपा प्रशासन ने तकनीकी खराबी बताकर रद कर दिया। टेंडर रद होने से जहां शहरवासियों में नपा प्रशासन के प्रति रोष है, वहीं ठेकेदारों ने भी नपा अधिकारियों पर मनमानी का आरोप लगाया है।

बता दें कि करीब तीन माह पहले पालिका प्रशासन ने सदन की बैठक में पास हुए विकास कार्यों को लेकर टेंडर आमंत्रित किए थे। टेंडर लगने के उपरांत लोगों को लगा कि उपरोक्त राशि से शहर की कायापलट होगी। लेकिन बृहस्पतिवार को पालिका प्रशासन के अधिकारियों ने अचानक टेंडरों को रद करने का फैसला लिया।

इस बाबत जब जानकारी हासिल की गई तो पालिका के अधिकारियों ने तकनीकी खराबी का बहाना लगाकर अपना पल्ला झाड़ लिया। ठेकेदारों ने नाम न छापने की सूरत में बताया कि पालिका प्रशासन के अधिकारियों ने उपरोक्त 23 टेंडरों में केवल अपनी मनमानी थोपी है। इससे ठेकेदारों को भारी नुकसान हुआ है। उपरोक्त 23 टेंडर तत्कालीन नपा सचिव सुनील रंगा के कार्यकाल के दौरान लगाए गए थे। लेकिन उनका तबादला होने और डोंगल न होने की वजह से तकनीकी समस्या आई है। इसी वजह से यह टेंडर रद किए गए हैं।

ओमदत्त, पालिका अभियंता, नगर पालिका फिरोजपुर झिरका

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप