संवाद सहयोगी, सतनाली

स्वच्छ भारत मिशन के तहत खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी कार्यालय सतनाली में पंचायती राज संस्थाओं के जनप्रतिनिधियों का सम्मेलन आयोजित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता पंचायत समिति की चेयरमैन मोनिका नागर ने की।

इस मौके पर डीआरडीए के परियोजना अधिकारी गो¨वद राम ने कहा कि गांवों में अब संपूर्ण स्वच्छता पर ध्यान देना चाहिए। ग्राम पंचायतों आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं तथा आशावर्कर के सहयोग से गांव खुले में शौच मुक्त हो चुके हैं। अब गांव में घरों से निकलने वाले कूड़े कचरे गंदे पानी का उचित डिस्पोजल करने पर जोर देना चाहिए। घरों से निकलने वाले कूड़े कचरे को लोग घरों के बाहर गलियों मे ना फेंके बल्कि ग्राम पंचायत द्वारा निर्धारित जगहों पर ही डालने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने बताया कि जिन सरपंचों के पास संसाधन हैं, उन गांवों में घरों से कूड़ा कचरा एकत्रित करवाकर व उस कचरे से केंचुआ खाद बनाने का कार्य शुरू करना चाहिए। उन्होंने स्कूलों व आंगनबाड़ी केंद्रों को समय-समय पर चैक करने को भी कहा। उन्होंने कहा कि सरपंच केवल नाली पक्की करवाने के लिए ही नहीं बने हैं। सरपंचों को गांव का ढांचागत विकास के साथ आर्थिक, सामाजिक तथा नैतिक विकास करना होता है। इस मौके पर खंड विकास पंचायत अधिकारी सतनाली झाबर ¨सह ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

Posted By: Jagran