जागरण संवाददाता, नारनौल : ऑल हरियाणा पीडब्ल्यूडी मैकेनिकल कर्मचारी यूनियन संबंधित हरियाणा कर्मचारी महासंघ ने सिचाई विभाग नारनौल में आउटसोर्स पर लगे कर्मचारियों के वेतन में से स्विफ्ट एजेंसी द्वारा का दस हजार रुपये काट लेने के विरोध में बृहस्पतिवार को सिघाणा रोड स्थित सिचाई विभाग कार्यालय में प्रदर्शन कर अपना विरोध जताया। वहीं एजेंसी का टेंडर रद करने के साथ कर्मचारियों के काटे गए वेतन को दिलवाने की मांग की।

महासंघ के प्रधान महेंद्र यादव व पूर्व प्रधान उपप्रधान बाबूलाल यादव ने बताया कि यांत्रिक मंडल नारनौल का आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को टेंडर अगस्त 2019 को स्विफ्ट एजेंसी को दिया गया था। तब से लेकर उक्त एजेंसी कर्मचारियों का आर्थिक व मानसिक रूप से वेतन प्रताड़ित कर रही है। वहीं सितंबर, अक्टूबर व नवंबर 2019 माह के वेतन से प्रति कर्मचारी के दस-दस हजार रुपये काट लिए है तथा पांच कर्मचारियों का अगस्त 2019 का वेतन ही नहीं दिया। वहीं 17 कर्मचारियों का सितंबर, अक्टूबर व नवंबर 2019 का वेतन भी नहीं दिया गया है। जोकि लगभग 25 लाख रुपए का गबन कर उक्त एजेंसी द्वारा किया गया है। लगातार 6-7 वर्षों से लगे कर्मचारियों को हटाया जा रहा है तथा 50 हजार रुपये लेकर पिछले दरवाजे से नए कर्मचारी लगाकर एजेंसी द्वारा सरेआम भ्रष्टाचार किया जा रहा है। सरकार के आदेश है कि सभी कर्मचारियों को प्रतिमाह सात तारीख तक वेतन दिया जाए। जब उक्त एजेंसी द्वारा न्यायालय व सरकार के आदेशों की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही है तथा वेतन तीन-चार माह बाद दिया जा रहा है। सिचाई विभाग के एक्सइएन सत्यवीर धरने पर पहुंचकर कर्मचारियों की समस्या सुनकर उनका समाधान करने व उच्चाधिकारियों से बात करवाने का आश्वासन दिया। इसके बाद यूनियन के प्रतिनिधि मंडल की सिचाई विभाग के अधीक्षक अभियंता सुरेश कुमार यादव से वार्तालाप की, जिसमें एसई ने कर्मचारियों को आश्वस्त किया कि एजेंसी द्वारा काटे गए वेतन को शीघ्र दिलवाया जाएगा। इसके अलावा जल्द से जल्द एजेंसी का टेंडर रद किया जाएगा। इस अवसर पर धर्मबीर सिंह, रमेश कुमार, दीपक शाडिल्य, सुभाष, कृष्ण कुमार, सुरेंद्र यादव, अजय सिंह, गौरीशंकर, ओमसिंह, भवानी सिंह व बुधराम आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस