जागरण संवाददाता, नारनौल: पेयजल की क्लोरीन जांच के लिए जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के जल एवं स्वच्छता सहायक संगठन द्वारा ग्राम पंचायतों में बनी ग्राम जल एवं सीवरेज समितियों को ओटी किट प्रदान की जा रही है। यह जानकारी देते हुए जिला सलाहकार मंगतुराम सरसवा ने बताया कि जल जीवन मिशन के तहत हर घर नल से स्वच्छ जल प्रदान करने का कार्य जारी है। उन्होंने बताया कि जल जीवन मिशन के तहत विभाग ग्रामीणों को पेयजल के प्रति सशक्त बनाने के लिए पीने के पानी का जीवाणु परीक्षण, क्लोरीन जांच व जल संरक्षण की ट्रेनिग दी जा रही है। पेयजल को जीवाणु रहित करने के लिए क्लोरीनेशन पानी में किया जाता है। इसी क्लोरीन की जांच के लिए जल एवं स्वच्छता सहायक संगठन की टीम जिले की प्रत्येक ग्राम पंचायत में ओटी किट ग्राम जल एवं सीवरेज समिति को वितरित की जा रही है व पानी की जांच करने के लिए प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस बारे में सभी बीआरसी को भी प्रशिक्षण प्रदान किया गया है। नांगल चौधरी की ग्राम जल एवं सीवरेज समिति भोजावास के सरपंच पवन कुमार, मुलौदी से ममता देवी व इकबालपुर नंगली से सरोजबाला को ओटी किट का प्रशिक्षण प्रदान किया गया व ओटी किट जांच के लिए प्रदान की गई। इस मौके पर बीआरसी इंद्रजीत, बीआरसी विक्रम सिंह, अंकुर व अजीत उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran