राजकुमार, नारनौल : हरियाणा सरकार में शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव डा. महावीर सिंह ने अटेली के मौलिक खंड शिक्षा अधिकारी मदनलाल भाटिया, राजकीय मॉडल संस्कृति स्कूल महेंद्रगढ़ के प्राचार्य एवं कार्यवाहक खंड शिक्षा अधिकारी आरपी कौशिक तथा राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय नायन के प्राचार्य एवं नांगल चौधरी के खंड शिक्षा अधिकारी नंदकिशोर तंवर को तुरंत प्रभाव से निलंबित कर दिया है। साथ ही उन्हें बिना अनुमति के जिला मुख्यालय नहीं छोड़ने के भी आदेश दिए हैं। इससे शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया। इन तीनों के विरुद्ध हालांकि अभी शिक्षा विभाग के अधिकारियों को चार्जशीट प्राप्त नहीं हुई है, लेकिन इन पर गलत तरीके से डेपुटेशन करने के आरोप दर्ज हैं। आदेशों की प्रति शुक्रवार को प्राप्त होने के चलते नए शिक्षा अधिकारियों का चयन नहीं हो पाया है। फिलहाल निलंबित शिक्षा अधिकारियों को शिक्षा विभाग की ओर से भत्ते मिलते रहेंगे।

सूत्र बताते हैं कि उक्त तीनों शिक्षा अधिकारियों ने पिछले दिनों डेपुटेशन के आधार पर कुछ शिक्षकों का इधर से उधर ट्रांसफर कर दिया, जबकि नियमानुसार इनके पास डेपुटेशन ट्रांसफर की शक्तियां इनके पास नहीं थी और डेपुटेशन ट्रांसफर करने में इन्होंने अनियमितताएं बरती तथा गलत तरीके से ट्रांसफर किए। सूत्र यह भी बताते हैं कि शिक्षा विभाग ने गत दिनों डेपुटेशन ट्रांसफर की जानकारी मांगी थी, जिसमें इन तीनों शिक्षा अधिकारियों की जानकारी भी चली गई। जबकि जो शिक्षक ट्रांसफर से प्रभावित हुए उन्होंने उच्च शिक्षा अधिकारियों को शिकायतें भेज रखी थी, जिससे यह मामले पकड़ में आ गए। मामले पकड़ में आने के उपरांत ये डेपूटेशन ट्रांसफर गलत पाए गए। इस कारण अब उक्त तीनों शिक्षा अधिकारियों को निलंबन का सामना करना पड़ा है।

बीइइओ अटेली व बीइओ नांगल चौधरी तथा महेंद्रगढ़ के निलंबन के अलावा उक्त प्रधान सचिव डा. महावीर सिंह ने फतेहाबाद जिले के जिला शिक्षा अधिकारी तथा भिवानी जिले के मौलिक शिक्षा अधिकारी को भी तुरंत प्रभाव से निलंबित कर दिया है।

सोशल मीडिया पर खूब चला निलंबन :

आज के युग में सोशल मीडिया खूब प्रभावी बनकर उभरा है। शुक्रवार को जब जिले के उक्त तीनों शिक्षा अधिकारियों के निलंबन की सूचना आई तो यह बड़ी तेजी से वॉट्सएप वगैरा पर वॉयरल हुई। लोगों ने अखबारों के कार्यालयों में फोन कर इसकी बार-बार जानकारी दी और सरकार के ताजातरीन निर्णय से अवगत कराया।

खंड नांगल चौधरी के बीइओ ने रखा अपना पक्ष :

बीइओ नांगल चौधरी नंदकिशोर तंवर ने इस मामले में अपना पक्ष रखा है। पत्र लिखते हुए उन्होंने बताया कि उन्होंने 20 सितंबर 2019 को यह चार्ज संभाला था। 31 अगस्त 2019 को सेवानिवृत्त होने से पहले आनंदस्वरूप मिश्रा नांगल चौधरी के खंड शिक्षा अधिकारी थे और जो डेपुटेशन वर्ष 2018-19 में किए गए हैं, वह आनंदस्वरूप मिश्रा द्वारा किए गए थे। इसलिए वह निर्दोष हैं। वर्जन :

आंतरिक व्यवस्था के कारण इनको निलंबित किया गया है, लेकिन इन्होंने डेपुटेशन जायज कर रखे हैं। इससे उच्चाधिकारियों को अवगत कराया जाएगा और पत्र भी लिखा जाएगा।

- सुनील दत्त यादव, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी, नारनौल। वर्जन :

यह सरकार के आदेश हैं। कारण अभी पता नहीं है, लेकिन डेपुटेशन का मामला है। सरकार के नियम के अनुसार अगला निर्णय लिया जाएगा।

- अजीत सांगवान, जिला शिक्षा अधिकारी, नारनौल।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस