नारनौल, जागरण संवाददाता। जिले में 71वां गणतंत्र दिवस धूमधाम से मनाया गया। स्थानीय आईटीआई मैदान में आयोजित जिलास्तरीय समारोह में उपायुक्त जगदीश शर्मा ने मुख्यातिथि के तौर पर शिरकत की और ध्वजारोहण किया तथा परेड निरीक्षण किया व मार्च पास्ट की सलामी ली। इस मौके पर विभिन्न स्कूलों की टीमों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किए।

समारोह में मुख्यातिथि ने स्वतंत्रता सेनानियों व उनके परिजनों का शॉल ओढ़ाकर सम्मान किया तथा आशीर्वाद ग्रहण किया। समारोह स्थल में पहुंचने से पहले उन्होंने जिला सैनिक बोर्ड में शहीद स्मारक पर शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित किए।

गणतंत्र दिवस की बधाई देते हुए मुख्यातिथि जगदीश शर्मा ने कहा कि हम देश की आजादी के लिए और  आजादी के बाद देश की एकता व अखंडता के लिए अपने प्राणों को न्योछावर करने वाले शहीदों के सदा ऋणी रहेंगे। साथ ही संविधान सभा की ड्राफ्ट कमेटी के अध्यक्ष बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर और दूसरे सदस्यों को नमन करते हैं।

मुख्यातिथि ने कहा कि गणतंत्र दिवस का यह पर्व हमारे देशभक्तों के त्याग, तप और बलिदान से जुड़ा हुआ है। आजादी की लड़ाई के दौरान और इसके बाद राष्ट्र की एकता व अखण्डता के लिए हरियाणा के सपूतों ने वीरता और बलिदान की नई मिसाल कायम की है। वहीं इस जिले का गांव नसीबपुर इसी सहादत भरी गौरव गाथा लिए है। यहां पर अंग्रेजों से लोहा लेते हुए एक ही दिन में लगभग 5 हजार देशभक्त शहीद हुए थे। आज भी यहां की लाल मिट्टी इस शौर्य गाथा की कहानी बयां कर रही है।

उन्होंने कहा कि आजादी के लिए जहां महात्मा गांधी, सुभाषचंद्र बोस, भगत सिंह, लाला लाजपत राय जैसे स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान को नहीं भुला सकते वहीं 'खुशहाल भारत' के सपने को साकार करने के लिए स्वामी विवेकानंद, डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय, पंडित मदन मोहन मालवीय, लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जैसे अनेक देशभक्तों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। शर्मा ने कहा कि आजादी के बाद देश ने उल्लेखनीय प्रगति की है लेकिन वह मंजिल हासिल करना अभी बाकी है जिसका सपना हमारे स्वंतत्रता सेनानियों ने देखा था।

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस