जागरण संवाददाता, नारनौल :

बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारी एसोसिएशन के आह्वान पर महेंद्रगढ़ जिले के एमपीएचडब्लू ने अपनी मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन आंदोलन व धरना चितवन वाटिका में 17वें दिन भी जारी रखा। धरना-प्रदर्शन को सर्व कर्मचारी संघ ने भी खुला समर्थन दिया। धरना उपरांत चितवन वाटिका से रोष प्रदर्शन करते हुए कर्मचारी लघु सचिवालय पहुंचे तथा उपायुक्त डा. गरिमा मितल को सीएम के नाम एक ज्ञापन सौंपा। अध्यक्षता जिला प्रधान धर्मवीर यादव और मंच संचालन प्रेस बलजीत कुमार द्वारा किया गया। एसोसिएशन ने घोषणानुरूप वित्तमंत्री का पुतला नहीं फूंका और प्रदर्शन किया।

जिला प्रधान धर्मवीर यादव ने कहा कि सत्ता के नशे में चूर भाजपा सरकार कर्मचारियों की जायज मांगों को मानने की बजाए एस्मा जैसे कठोर कानून के तहत कर्मचारियों पर मुकदमे दर्ज करवा रही है। आंदोलन के दौरान धरने में शामिल एनएचएम में कार्यरत 51 महिला स्वास्थ्य कर्मचारियों को निलंबित करना और उनके विरुद्ध मुकदमे दर्ज करना जैसे ¨नदनीय घटना को अंजाम दे रही है। इसका हरियाणा के कर्मचारी और जनता समय आने पर माकूल जवाब देंगे।

राज्य वरिष्ठ उपप्रधान मुकेश चौहान व पूर्व प्रधान अनिल रसूलपुरिया ने कहा कि सरकार प्रजातंत्र की परिभाषा भूलकर तानाशाही रवैया अपनाए हुए है और कर्मचारियों की जायज मांगों को मांगने की बजाय कर्मचारियों पर हर तरह से अत्याचार कर रही है। सरकार अपने चुनावी वादों को भूल कर कर्मचारियों में डर का माहौल पैदा करना चाहती है। हरियाणा के कर्मचारी सरकार की दमनकारी नीतियों के से डरकर अपने हकों की लड़ाई से पीछे हटने वाले नहीं हैं। बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारियों की जायज मांगों के लिए लगातार संघर्ष जारी रहेगा।

जिला महासचिव बलजीत कुमार व सह सचिव प्रवीण कौशिक ने बताया कि आज हमारे अनिश्चितकालीन धरना व आंदोलन के 17वें दिन भी महेन्द्रगढ़ जिले की सभी मूलभूत स्वास्थ्य सेवाएं पूर्ण रूप से बंद हैं। जनता को बहुत ही परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसके बावजूद सरकार हठधर्मिता अपनाए हुए है।

इस अवसर पर मास्टर महेश कुमार, धर्मेन्द्र यादव, महेंद्र बोयत, कौशल कुमार, पूर्ण चंद, दिनेश कुमार, रमेश कुमार, धर्मपाल शर्मा, महेन्द्र संगेलिया, सुजान मालडा, गुलजारी, रामनिवास सेहलगिया, कृष्ण कांत, दीपचंद जैदिया, पूर्ण जैदिया, विक्रम यादव, रण¨सह मालडा, दिलबाग, कंवरपाल, ऋषिराज, निर्मला देवी, सुनीता देवी, विमला, शारदा, कमलेश, लाजवंती, चम्पा, सुमन देवी, स्नेहलता व शर्मिला आदि स्वास्थ्य कर्मचारी उपस्थित थे।

Posted By: Jagran