मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र :

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के जनसंचार एवं मीडिया प्रौद्योगिकी संस्थान की ओर से हिदी सप्ताह के उपलक्ष्य में हिदी पत्रकारिता- मुद्दे एवं चुनौतियां विषय पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। सप्ताह भर में विभिन्न प्रतियोगिताएं करवाई गई, जिनके विजेता विद्यार्थियों ने सम्मानित किया गया। पोस्टर मेंकिग प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार बीएससी ग्राफिक्स एंड एनिमेशन के मोहित भोला, बीएसएसी मल्टीमीडिया के दीपक को द्वितीय, बीएससी ग्राफिक्स एंड एनिमेशन की कृत्तिका को तीसरा और बीएससी ग्राफिक्स एंड एनिमेशन के मोहित राजपूत को सांत्वना पुरस्कार दिया गया।

कविता पाठ में बीए मॉस काम प्रथम वर्ष की तृप्तजीत कौर प्रथम, बीएमसी तृतीय वर्ष की काजल द्वितीय, बीएससी ग्राफिक्स एंड एनिमेशन की केशवी तृतीय स्थान पर रही। पीपीटी प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार कशिश चौहान, द्वितीय सूर्यांश चावला, तृतीय पुरस्कार केशवी को मिला। कैप्शन प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार एमए द्वितीय वर्ष के रोहित यादव, बीए मॉस काम के निजू को द्वितीय, बीए मॉस काम के संजीव राठौर को तृतीय स्थान मिला। वाद-विवाद प्रतियोगिता में बीए मॉस कॉम तृतीय सेमेटस्टर के अनुप सेमवाल को प्रथम पुरस्कार, बीटेट एंड पैकेजिग के आशिष वत्स को द्वितीय, एमए प्रथम वर्ष के भिवानी प्रसाद और एमएससी प्रथम वर्ष के हिमांशु शर्मा को संयुक्त रूप से तृतीय पुरस्कार दिया गया।

कार्यक्रम में दैनिक जागरण पानीपत के समाचार संपादक सतीश चंद्र श्रीवास्तव ने कहा कि अगर आपके मन में समाज सेवा की ललक और एक आदर्श समाज स्थापित करने का जज्बा है तो आपका पत्रकारिता के क्षेत्र में स्वागत है। यह एक ऐसा कार्य है जो सीधे-सीधे समाज की भलाई से जुड़ा है। अगर किसी विद्यार्थी में यह सभी गुण हैं तो पत्रकारिता के क्षेत्र में उसका भविष्य उज्जवल है। टीवी चैनल के हेड मुकेश राजपूत ने कहा कि इलेक्ट्रानिक मीडिया में आप केवल अपनी भाषा के उच्चारण के बल पर ही पहचान बना सकते हैं, इसलिए विद्यार्थियों को अपनी उच्चारण की भाषा पर पकड़ बनानी होगी। हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग के प्रो. शशिकांत शर्मा ने कहा कि हिदी को आगे बढ़ाने के लिए हमें किसी अन्य भाषा को कमजोर नहीं करना है बल्कि उस भाषा को सम्मान देते हुए हिदी भाषा को भी सम्मान देना होगा। अपनी पैतृक भाषा को सम्मान देते हुए ही चाइना, जापान, रूस, इग्लैंड देशों ने विशेष ख्याति प्राप्त की है ओर उसी दिशा में हमें आगे बढ़ना है। संस्थान की निदेशिका डॉ. बिदु शर्मा ने कहा कि पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए किसी भाषा की बारीकियों को सीखना बहुत ही महत्वपूर्ण है। इस अवसर पर संगोष्ठी के संयोजक डॉ. बंसीलाल, डॉ. मधुदीप, डॉ. अशोक शर्मा, डॉ. आबिद अली, डॉ. अभिनव, डॉ. तपेश किरण, रोमा सिंह मौजूद रहे।

---

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप