फोटो संख्या : 28

-विधायक व 22 नप पार्षदों ने 2 माह के यूजर चार्ज दिया

-विरोध करने वाले पार्षदों को कहा पढ़े एनजीटी के आदेश

-टिपरों के साथ हेल्पर की भी होगी व्यवस्था, प्रत्येक घर के आगे से गुजरेगा टिपर

जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : शहर की सरकार में डोर-टू-डोर कूड़ा उठान पर यूजर चार्ज लेने को लेकर खींचतान बढ़ गई है। विपक्ष के 10 पार्षदों के सामूहिक रूप से इस्तीफा देने के अगले दिन सत्ता पक्ष के पार्षद आगे आकर विधायक सुभाष सुधा और नगर परिषद चेयरपर्सन उमा सुधा के समर्थन में खड़े हो गए हैं। दावा किया है कि 22 पार्षदों ने विधायक के साथ बैठक कर दो-दो महीने का यूजर चार्ज दिया। उनको मौके पर ही इसकी रसीद दी गई।

विधायक सुभाष सुधा के सेक्टर-7 स्थित आवास कार्यालय पर बृहस्पतिवार को नप के पार्षदों ने बैठक की। पार्षदों ने सबसे पहले विधायक सुभाष सुधा व नप के 22 पार्षदों ने एनजीटी के आदेशानुसार यूजर चार्जर के तहत कूड़ा उठाने के लिए दो महीने की 100-100 रुपये की पर्ची कटवाई है। विधायक ने कहा कि हरियाणा प्रदेश की सभी नगर पालिकाओं और नगर परिषदों में सरकार की घर-घर से कूड़ा एकत्रित करने के लिए यूजर चार्ज तय किए गए हैं। एनजीटी और शहरी स्थानीय निकाय विभाग के आदेशानुसार डोर-टू-डोर कूड़ा उठान पर 100 प्रतिशत यूजर चार्ज उपभोक्ताओं से लेने के निर्देश जारी गए हैं। इससे टिपर ड्राइवर व टिपरों का खर्च व टिपरों के रखरखाव तथा डीजल आदि का खर्च यूजर चार्ज से किया जा सकेगा।

विधायक को समर्थन देने वाले 22 पार्षद

विधायक सुभाष सुधा और उमा सुधा को नप के 22 पार्षदों ने समर्थन देने का दावा किया है। जबकि 10 पार्षद बुधवार को सामूहिक रूप से इस्तीफा दे चुके हैं। इस हिसाब से 21 पार्षद होने चाहिए, लेकिन समर्थन 22 पार्षदों का मिला है। एक पार्षद को लेकर अब सवाल उठने लगे हैं।

खराब टिपरों को ठीक कराने के दिए आदेश

विधायक ने नगर परिषद के अधिकारियों को खराब टिपरों को ठीक कराने के आदेश दिए गए है। इस समय नगर परिषद के पास लगभग 82 टिपर हैं। इन सभी टिपरों पर हेल्पर की व्यवस्था की गई है और इन टिपरों को कार्य करने के भी आवश्यक दिशा-निर्देश नप की तरफ से दिए गए है।

विपक्ष का आज भी सवाल बैठक बुलाए बिना दिए आदेश

विरोध करने वाले विपक्षी पार्षदों का कहना है कि यह निर्णय हाउस की बैठक में होने चाहिए था। सभी पार्षदों के सुझाव लेने के बाद ही निर्णय हो। कोरोना वायरस के चलते बैंकों में ब्याज माफी, दुकानदारों का किराया माफ किया जा रहा है। ऐसे में लोगों पर अतिरिक्त बोझ डाला जा रहा है। वे अभी भी अपनी बात पर अड़िग हैं।

गीला व सूखा कचरा अलग-अलग उठाया जाएं

ग्रीन अर्थ संगठन ने नप थानेसर के घर-घर से कचरा उठाने के लिए यूजर चार्ज लगाने के फैसले का समर्थन किया है।संगठन सदस्य डा. नरेश भारद्वाज ने बताया कि गीला व सूखा कूड़ा घरों में ही अलग होना चाहिए और इसको अलग-अलग डंप करना चाहिए। इससे कूड़े की मात्रा कम होगी और नप को उठान पर अधिक पैसा खर्च नहीं करना पड़ेगा। यूजर चार्ज नियमानुसार लेना भी चाहिए। नप को टिपर की बजाय रेहड़ियों या ई-रिक्शा लगानी चाहिए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस