जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : उत्तर प्रदेश के जिला बदायू के गांव अशदूलपुर निवासी जोगिद्र सिंह अपने परिवार को पालने के लिए कुरुक्षेत्र में अपने जीजा के पास नौकरी करने के लिए आया था। वह अपने जीजा के साथ ही मजूदरी कर परिवार को पालन-पोषण कर रहा था। आठ साल का छोटा बेटा उसे बेहद प्यारा था, मगर उसकी मौत ने उसे झकझोंर कर रख दिया है। पोस्टमार्टम रूम पर पिता की आंखों से बह रहे आंसू देख हर किसी का मन विचलित हो उठा। जिस ट्रैक्टर-ट्राली के नीचे आ कर आठ वर्षीय हर्षवर्धन की मौत हुई उस पर वह रोज खेलता था। पुलिस ने पोस्टमार्टम करा शव स्वजनों को सौंप दिया है। वहीं ट्रैक्टर-ट्राली चालक घटना को अंजाम देने के बाद से फरार हो है। पुलिस आरोपित की तलाश में जुटी है।

हर्षवर्धन के फूफा खेड़ी ब्राह्मण निवासी दिनेश ने बताया कि 10 साल पहले उसका साला जोगिद्र उत्तर प्रदेश से उसके पास काम करने के लिए आया था। उसके दिन बच्चे हैं। बड़ा लाड़का 10 वर्षीय तारा चंद व 14 वर्षीय बेटी गुडिया है। आठ वर्षीय हर्षवर्धन गांव में ही प्राइवेट स्कूल में केजी कक्षा में पढ़ता था। जोगिद्र मेहनत मजदूरी कर अपने परिवार को पाल रहा था।

मकान के नीचे है रेत-बजरी की दुकान

हर्षवर्धन का परिवार जिस मकान में ऊपर बने कमरे पर रह रहा था। उसी के नीचे रेत-बजरी की दुकान है। हर्षवर्धन इस ट्रैक्टर-ट्राली पर खेलता भी था। जब वह अपने घर जा रहा था तो ट्रैक्टर-ट्राली चालक ने लापरवाही से चलाते उसे उसे टक्कर मार दी। उसके फूफा दिनेश कुमार के सामने ही हर्षवर्धन ने दम तोड़ दिया।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस