जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : यमुनानगर से श्रमिकों को लेकर बिहार जा रहा बस चालक नियमों को ताक पर रखे हुए था। सरकार की ओर से बसों में 30 यात्रियों को ले जाने की अनुमति है, जबकि प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि बस में 70 से अधिक यात्री थे। इनमें श्रमिकों के परिवार व बच्चे भी शामिल थे। श्रमिकों को रात के अंधेरे में लेकर जाने का निर्णय लिया, ताकि सुबह होते-होते हरियाणा व दिल्ली को पार करने की फिराक में था। बस में सवार नरेश साहनी, महेश साहनी, कमल, वीरेंद्र व सन्नी ने पुलिस को बताया कि प्राइवेट बस चालक बस को लापरवाही से चला रहा था, जिसके चलते यह हादसा हुआ है।

चीख-पुकार सुनते ही बस की और दौड़े ग्रामीण

बस के पलटते ही चीख-पुकार मच गया। चीख-पुकार सुन कर ग्रामीण बस की ओर दौड़े। ग्रामीणों व राहगीरों की मदद से समय पर श्रमिकों को बाहर निकाला। घायलों को सीएचसी लाडवा ले जाया गया। हादसे के बाद जीटी रोड पर लंबा जाम भी लग गया।

पहले गंभीर घायलों को भेजा अस्पताल

सूचना मिलते ही थाना लाडवा प्रभारी राजपाल पुलिस बल सहित मौके पर पहुंचे। पुलिस ने दो एंबुलेंस की मदद से घायलों को लाडवा के अस्पताल में भर्ती कराया। पुलिस के मुताबिक बस में लगभग 60 लोग सवार थे, जिनमें बच्चे भी शामिल हैं। पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से गंभीर रूप से घायलों को पहचान कर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया है। वहीं कुछ निजी वाहन चालकों ने भी अपने वाहनों से घायलों को अस्पताल पहुंचाया है। जीटी रोड पर बाल-बाल बचे थे श्रमिक

गत दिनों जीटी रोड पर ट्रैफिक थाने के पास श्रमिकों से भरी एक बस में तकनीकी खामी के चलते आग लग गई थी। हाईवे पुलिस के जवानों की सतर्कता के चलते बड़ा हादसा होने से टला था। बताया जा रहा है कि श्रमिक लॉकडाउन के दौरान बस में लुधियाना से उत्तर प्रदेश के बहराइच अपने गांव जा रहे थे। बस इंजन में आग लग गई थी। कुछ ही देर में आग ने लपटों का रूप ले लिया था। दमकलकर्मियों ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाया था। हाईवे पुलिस ने लोगों को शाम का खाना खिलाकर आगे रवाना किया था।

पुलिस कर रही जांच : राजपाल

थाना लाडवा प्रभारी राजपाल ने बताया कि पुलिस सूचना मिलते ही मौके पर पहुंच गई थी। घायलों को इलाज अस्पताल में चल रहा है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021