- हरियाणा स्कूल लेक्चरर एसोसिएशन ने सरकार के निर्णय पर जताया विरोध जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : राज्य अवार्ड से सम्मानित होने वाले प्रदेशभर के शिक्षकों को अब अवार्ड के साथ नौकरी में मिलने वाला दो साल तक का एक्सटेंशन नहीं मिलेगा। सरकार ने राज्य शिक्षक पुरस्कार नीति-2020 में संशोधन कर दो साल तक का एक्सटेंशन को हटा दिया है।

सरकार की ओर से राज्य शिक्षक पुरस्कार नीति-2020 में किए गए संशोधन के बाद राज्य अवार्ड से सम्मानित होने वाले शिक्षकों को एक लाख रुपये का नकद, रजत पदक, एक प्रमाण पत्र, एक शाल और भविष्य में पूरी सेवा के लिए महंगाई भत्ते के साथ दो अग्रिम वेतन वृद्धि दी जाएगी। जारी पत्र में बताया गया कि यह आदेश पूर्व में मिले राज्य अवार्ड से सम्मानित शिक्षकों पर लागू नहीं होगा, बल्कि आगामी भविष्य में प्राप्त करने वाले शिक्षकों पर लागू होगा।

सरकार के निर्णय पर हसला ने जताया विरोध

हरियाणा स्कूल लेक्चरर एसोसिएशन के जिला प्रधान बलराम शर्मा ने कहा कि सरकार के इस निर्णय से शिक्षकों के कार्यप्रणाली पर असर पड़ेगा। इसलिए हसला सरकार से मांग करती है कि शिक्षक राज्य अवार्ड में मिलने वाले दो साल के एक्सटेंशन को बहाल किया जाए। जिससे शिक्षक तन और मन से विद्यार्थियों को पढ़ा सकें। वहीं इस निर्णय से सीधे तौर पर विद्यार्थियों के परीक्षा परिणाम व पढ़ाई के स्तर पर भी देखने को मिलेगा। ऐसे में सरकार को चाहिए कि वे इस निर्णय पर दोबारा से विचार कर दो साल तक की एक्सटेंशन को बहाल किया जाए।

Edited By: Jagran