संवाद सहयोगी, शाहाबाद : भाकियू कार्यकर्ताओं ने बड़े तहसीलदार के खिलाफ रजिस्ट्री करवाने की एवज में पैसे मांगने का आरोप लगाया है। इस आरोप के साथ भाकियू कार्यकर्ता तहसील कार्यालय में धरने पर बैठ गए और जमकर नारेबाजी की। भाकियू वर्करों ने तहसीलदार की संपत्ति की जांच करवाए जाने की भी मांग की है। प्रेस प्रवक्ता राकेश बैंस ने कहा कि वह तहसील कार्यालय में अपने परिचित पाला राम की रजिस्ट्री करवाने के लिए पहुंचे थे। जिसे लेकर वह तहसीलदार से मिले और रजिस्ट्री करवाने की बात कही। राकेश बैंस ने कहा कि इस पर तहसीलदार ने कहा कि रजिस्ट्री तो हो जाएगी, लेकिन सेवा पानी करके जाओ। राकेश ने कहा कि इस पर उसने भाकियू कार्यकर्ताओं को फोन किया और तहसील कार्यालय के सामने धरने पर बैठ गए। मामले को बढ़ता देख एसडीएम संयम गर्ग धरना स्थल पर पहुंचे और किसानों से बातचीत की। जिस पर प्रवक्ता राकेश बैंस ने सारा मामला एसडीएम के समक्ष रखा। जिस पर एसडीएम ने राकेश बैंस से कहा कि वह यह शिकायत लिखित में दे दें, जिस पर तत्काल प्रभाव से कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद भाकियू कार्यकर्ता शांत हुए और राकेश बैंस ने लिखित में शिकायत एसडीएम को दी। वहीं कई लोगों ने एक पटवारी पर भी पैसे मांगने का आरोप लगाया है। आरोप निराधार : टीआर गौतम तहसीलदार टीआर गौतम ने कहा कि उन पर लगाया गया आरोप निराधार है। उनकी रजिस्ट्री लिखवाई नहीं हुई थी। उन्होंने रजिस्ट्री लिखवा कर लाने के लिए कहा था। किसी भी सरकारी काम के लिए औपचारिकताएं पूरी होनी चाहिएं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप