जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र: ये जो बच्चे एक आलिशान डॉयनिग हॉल में बैठकर भोजन कर रहे हैं यह राजकीय प्राथमिक पाठशाला जलबेहड़ा ने पंचायत के साथ मिलकर किया है। बच्चे भी डॉयनिग हॉल पाकर खुश हैं और पंचायत भी खुश है कि उनके गांव के सरकारी स्कूल में प्रदेश का सबसे अच्छा डॉयनिग हॉल है। स्कूल में ये जगह खाली पड़ी थी और प्राथमिक पाठशाला के हेड टीचर अजीत सिंह और हेड मिस्ट्रेस डॉ. प्रीतिका को यहां बच्चों के लिए ऐसे डॉयनिग हॉल की जरूरत हो, जहां न केवल वे बैठकर आराम से खाना खा सकें और बल्कि स्वच्छता और अनाज के महत्व के सूत्र भी पकड़ सकें। इसके लिए स्टाफ, एसएमसी प्रधान कृष्ण कुमार और समाजसेवी ओमप्रकाश ने गांव की सरपंच संतोष कुमारी से बात की गई तो बच्चों की जरूरत को देखकर उन्होंने तुरंत ही इसके निर्माण की हामी भर ली। सबुधवार को इस डॉयनिग हॉल का शुभारंभ भी हो गया है। गांव की सरपंच को जब अपने ये विचार बताया तो उन्होंने एक मिनट भी हामी भरने में नहीं लगाई। संभवतया प्रदेश में सरकारी स्कूल के बच्चों के लिए इससे सुंदर डॉयनिग हॉल नहीं होगा।

- डॉ. प्रीतिका, मुख्याध्यापिका हमारे गांव का सरकारी स्कूल एक तरह से आदर्श स्कूल है। वहां का स्टाफ बहुत मेहनती है और बच्चों के बारे में हमेशा सोचता रहता है और जब भी जरूरत हो निसंकोच हमसे सहयोग मांगते हैं और हमें भी खुशी होती है इस काम में उनका सहयोग करते हुए। वास्तव में डॉयनिग हॉल बेहतरीन बना है और बच्चों को वहां बैठा देखकर पूरी पंचायत के दिल को सुकून मिला है।

- संतोष कुमारी, सरपंच, जलबेहड़ा

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस