जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र: यातायात नियमों के बारे में युवाओं को जागरूक करने के लिए कमोदा के सीनियर सेकेंडरी स्कूल में विद्यार्थियों के लिए यातायात जागरुकता सेमिनार का आयोजन किया गया। इसमें जिला ट्रैफिक पुलिस कोऑíडनेटर नरेश कुमार ने मुख्य वक्ता के रूप में शिरकत की। सेमिनार में स्कूल के करीब 280 छात्र-छात्राओं को यातायात के नियमों के बारे में जानकारी दी गई।

नरेश कुमार ने कहा कि देश में इतनी मौतें बीमारियों से नहीं होती, जितनी सड़क दुर्घटनाओं में होती हैं। सड़क दुर्घटनाओं के मामले में भारत अग्रिम देशों में शामिल हैं। सड़क दुर्घटनाओं में सबसे च्यादा नुक्सान युवा वर्ग का हो रहा है। इसलिए युवा वर्ग यातायात नियमों को अपने व्यवहार मे अपनाकर और छोटी-छोटी आदतों को जीवन का हिस्सा बनाकर अपना व दूसरों का जीवन सुरक्षित रख सकते हैं।

उन्होंने कहा कि जिस प्रकार हम अपने मोबाइल को कवर या स्क्रीन कार्ड लगाना नहीं भूलते, उसी प्रकार दोपहिया वाहन पर चलते समय हमेशा हेलमेट रखें। बाइक या गाड़ी का इंश्योरेंस और प्रदूषण जांच प्रमाण पत्र लेना चाहिए। ट्रैफिक सिग्नल के नियमों का पालन करना चाहिए। इन सभी बातों को यदि हम अपने रोज के व्यवहार मे शामिल कर लें तो हर रोज बढ़ रहे हादसों के आंकड़े को कम किया जा सता है।

उन्होंने कहा कि अनुशासन में चलने वाले वाहन चालक को पुलिस या प्रशासन बिल्कुल भी परेशान नहीं कर सकता। जिस प्रकार हम अनुशासन में रहकर अच्छे नागरिक बन सकते हैं, उसी प्रकार सड़कों पर अनुशासन से हम खुद भी सुरक्षित रहेंगे और दूसरों को भी सुरक्षित रखेंगे। ऐसा करने से जहां हम नियमों का पालन करेंगे, वहीं हम बिना किसी तनाव या डर के सड़क पर घूम सकते है।

उन्होंने विद्यार्थियों से अपील की कि वह ड्राइविग लाइसेंस बनवाएं और वाहन के कागजात पूरे करने के बाद ही वाहन को चलाएं ताकि आपको होने वाली परेशानी से छुटकारा मिल सके। एएसआइ नरेश कुमार ने बच्चों को लाइसेंस बनवाने की प्रक्रिया बारे भी विस्तार से समझाया। इस अवसर पर स्कूल प्रिसिपल यशोदा कुमारी, प्राध्यापक ईश्वर सिंह, सुल्तान सिंह, कविता, अंजुल वशिष्ठ, सुनीता मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप