संवाद सहयोगी, शाहाबाद : शाहाबाद से छह किलोमीटर दूर नौगजा पीर के पास बुधवार को तड़के तीन बजे पंजाब रोडवेज की बस ने ट्रैक्टर-ट्राली को टक्कर मार दी। टक्कर लगने से ट्रैक्टर-ट्राली पलट गई और उसमें सवार 15 मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गए। पुलिस टीम व हेल्पर्स टीम दुर्घटनास्थल पर पहुंची और मशक्कत के साथ घायलों को उपचार के लिए शाहाबाद के सरकारी अस्पताल में दाखिल करवाया। एक साथ इतने घायल शाहाबाद सीएचसी में पहुंचे तो अस्पताल का आपातकालीन विभाग भी छोटा पड़ गया। अस्पताल का पूरा स्टाफ मरीजों की मरहम पट्टी में लग गया। इस दौरान मरीजों को फर्श पर ही लिटा दिया गया। अस्पताल में जगह की कमी होने की वजह से हेल्पर्स ने गद्दों की व्यवस्था भी की, जिसे घायलों के लिए नीचे बिछाया गया।

सभी मजदूर अंबाला सिटी में जनस्वास्थ्य विभाग की सीवर लाइन पर काम कर रहे थे। बरसात के कारण ठेकेदार ने 10-15 दिन के लिए काम बंद करने के लिए कहा। जिस पर लेबर दो ट्रालियों में सवार होकर अपने गंतव्य पर जा रही थी। जब वह नौगजा पीर के पास पहुंचे तो पंजाब रोडवेज की बस ने ट्राली को पीछे से टक्कर मार दी। इस टक्कर के कारण ट्रैक्टर-ट्राली में सवार सलमान, दिलशाद, बंगा, अनवाज, लुकमान, रिआन, उमल, शहजाद, अरबाज, मूसा, मोहम्मद, सद्दाम, साहिब, गुलबहार गंभीर रूप से घायल हो गए जबकि बंगा व लुकमान को इलाज के लिए पीजीआइ रेफर कर दिया गया। इसके अलावा अनवाज, रिआन व उमर को एलएनजेपी अस्पताल में उपचार के लिए भेजा गया। पुलिस ने शिकायत के आधार पर बस चालक के खिलाफ मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।

बस चालक के खिलाफ मामला दर्ज

घायल दिलशाद व सलमान ने बताया कि अंधेरा होने के कारण मजदूर नींद में थे, अचानक ट्रैक्टर-ट्राली को जोर की टक्कर लगी। उस पल तो ऐसा लगा कि जैसा कोई धमाका हो गया। उस धमाके के बाद सभी सड़क पर जा गिरे। सभी मदद के लिए चिल्ला रहे थे। कुछ देर बाद ही हेल्पर्स व पुलिस की टीम ने मौके पर पहुंच कर वहां लाइट की व्यवस्था की और एंबुलेंस के माध्यम से सभी को अस्पताल में पहुंचाया गया। पुलिस ने शिकायत के आधार पर बस चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। सड़क हादसे का कारण बस के चालक को नींद की झपकी आना बताया जा रहा है लेकिन पुलिस ने इसकी पुष्टि नहीं की है। हेल्पर्स ने दी राहत

सड़क हादसों के घायलों की मदद में लगी हेल्पर्स संस्था के प्रधान तिलक राज अग्रवाल अपनी टीम के साथ घटनास्थल पर सबसे पहले पहुंचे। जहां हेल्पर्स ने सभी घायलों को अस्पताल पहुंचाने का प्रबंध किया वहीं घायलों के लिए जलपान की व्यवस्था भी की। हेल्पर्स ने घायलों के परिजनों को फोन पर घटना की सूचना भी दी तथा गंभीर घायलों को चंडीगढ़ पीजीआइ व एलएनजेपी कुरुक्षेत्र पहुंचाया। हेल्पर्स के पूर्ण सिंह, सीता राम बत्तरा, जयपाल सिंह, इंद्र बत्तरा व नरेश सैनी ने घायलों का सामान भी सुरक्षित रखा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप