जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : परिवार पहचान पत्र को सरकार की योजनाओं से जोड़ा जाएगा। अब इसी के माध्यम योजनाओं का लाभ पात्र लोगों को मिलेगा। ऐसे में सभी को अपना पीपीपी कार्ड बनवाना होगा।

विधायक सुभाष सुधा ने बताया कि परिवार पहचान पत्र बनाने की ऐसी योजना बनाने वाला हरियाणा देश का पहला राज्य है। जहां अब तक इस योजना को देश ही नहीं बल्कि विदेश में भी शुरू नहीं किया गया है। यह सरकार की फ्लैगशिप योजना है। जिससे सरकार सरकारी योजना का लाभ पाने के असल हकदार तक पहुंचेगी और उन्होंने अब तक उनका लाभ नहीं लिया है। एडमिशन से पीपीपी को जोड़ने के बाद विद्यार्थियों का डाटा आटोमैटिक वेरीफाई हो गया। इससे 15 मिनट का काम महज पांच मिनट में पूरा हो गया और विद्यार्थियों को वेरिफिकेशन के लिए इधर-उधर नहीं भटकना पड़ रहा है।

स्मार्ट कार्ड से भी मिलेगा लाभ

उन्होंने कहा कि वर्तमान दौर सूचना प्रौद्योगिकी (आइटी) का है। इससे सेवाओं का सरलीकरण किया जा रहा है। पीपीपी के शुरू होने से पात्र लोगों का आसानी से पता चल जाएगा। कई बार अपात्र या एक व्यक्ति कई कई योजनाओं का लाभ ले रहे होते हैं। पीपीपी के माध्यम से सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में पूर्ण पारदर्शिता आ रही है। उन्होंने कहा कि सरकारी योजनाओं का लाभ अब स्मार्ट कार्ड से भी मिलेगा। इसको पीपीपी से जोड़ा जाएगा।

स्वेच्छा से कार्य करने वाले जुड़ेंगे

हरियाणा वालंटियर प्रोग्राम के तहत लगभग स्वेच्छा से कार्य करने वाले लोगों को जोड़ा जाएगा। सरकार के जिम्मे बहुत से काम होते है, ऐसे में वालंटियर के तौर पर युवकों, रिटायर्ड कर्मचारियों, छात्रों की शिक्षा, स्किल डेवलेपमेंट, खेल, कृषि आदि क्षेत्रों में सेवाएं ली जाएंगी।

Edited By: Jagran