जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र :

डीसी डॉ. एसएस फुलिया ने कहा कि धर्मनगरी कुरुक्षेत्र के प्रवेश द्वारों के सुंदरीकरण को लेकर योजना तैयार की जा रही है। इन्हें आकर्षक बनाने के लिए लैंड स्केपिग करवाने और भव्य लाइटिग लगवाने पर विचार चल रहा है। इतना ही नहीं, इन प्रवेशद्वारों पर पर्यटकों के बैठने के लिए भी उचित जगह बनाई जाएगी। ऐसे में देश-विदेश से धर्मनगरी आने वाले पर्यटकों को गीता स्थली में पहुंचने का एहसास होगा। इसके साथ ही शहर में विकास कार्यों को विशेष तवज्जो दी जा रही है। यह सभी तरह के कार्य श्रीकृष्णा सर्किट प्रोजेक्ट के तहत करवाया जाएंगे। वह शुक्रवार को उपायुक्त कार्यालय में श्रीकृष्णा सर्किट प्रोजेक्ट के संदर्भ में अधिकारियों के साथ विकास कार्यों की प्रगति रिपोर्ट को लेकर बैठक को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि नरकरतारी तीर्थ पर सभी प्रकार का कार्य पूरा हो चुका है और इस तीर्थ को विकसित करने के लिए दो करोड़ तीन लाख 59 हजार रुपये की राशि खर्च की गई है। इसके तहत सन्निहित सरोवर पर पांच करोड़ 45 लाख 32 हजार रुपये की राशि खर्च की जानी है। उन्होंने बताया कि शहर में 35 लाख 65 हजार रुपये की लागत से बहुउद्देशीय पर्यटन सूचना केंद्र का निर्माण कार्य पूरा किया जा चुका है। 13 दिसंबर को दिल्ली में इसकी प्रजेंटेशन होगी। इस मौके पर एसपी आस्था मोदी, एडीसी पार्थ गुप्ता, एसडीएम अश्वनी मलिक, केडीबी के सीईओ गगनदीप सिंह, केडीबी के मानद सचिव मदन मोहन छाबड़ा, पर्यटन विभाग के कार्यकारी अभियंता अनुज गुप्ता मौजूद रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021