जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : गांव कनीपला में मिशन-ओआरए के अध्यक्ष बलबीर सूद की अध्यक्षता में कैंडल मार्च निकालकर पहली आदिवासी डॉ. पायल तड़वी, पुलवामा शहादत, सूरत व दिल्ली अग्निकांड में मरने वालों को श्रद्धांजलि अर्पित की। ग्रामीणों ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पित किए। बलबीर सूद ने कहा कि डॉ. पायल तड़वी की खुदखुशी भारतीय समाज की कठोर जातीय बनावट का दिवालियापन है। इन घटनाओं से समस्त समाज को गहरा दुख है और सब इसकी कड़े शब्दों में

निदा करते है, हम सब की संवेदनाएं पुलवामा शहादत, अग्नि कांड व डॉ. तड़वी के परिवारों के साथ है। भारतीय समाज इस हद तक पंहुच गया है कि इससे अब भारतीय विज्ञान भी अछूता नहीं रहा। इस जातीय बनावट ने विज्ञान को भी अपने लपेटे में ले लिया। इससे बड़ा दुर्भाग्या हमारे देश का और क्या हो सकता है। इस मौके पर अनिल दहिया, धर्मबीर सैनी, चिराग कश्यप, राजेश कश्यप, रजत बाजवा, आशीष बाजवा, विकास बाजवा, जयप्रकाश सूद, राजपाल सूद, राहुल बिड़लान, सौरभ निषाद आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस