जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : गीता निकेतन आवासीय विद्यालय के प्राचार्य नारायण सिंह ने कहा कि बच्चे को संस्कारवान बना उसके व्यक्तित्व निर्माण में एक मां की महत्वपूर्ण भूमिका है। आज के समय में सारे परिवेश को सोशल मीडिया ने कवर कर लिया है। आज अभिभावकों के सामने यह चुनौती है कि बच्चा किसी के साथ बात करने की बजाय मोबाइल से खेलना ज्यादा पसंद कर रहा है। वह शनिवार को विद्यालय में आयोजित मातृ-गोष्ठी में पहुंची माताओं को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि इस बात पर हमें ध्यान देना होगा। यह परिवार के सबसे बड़ा दायित्व है कि अपने छोटे बच्चे को मोबाइल से बचाकर उसे पारिवारिक माहौल दें। उन्होंने कहा कि विद्या भारती के प्रावधान में चलने वाली मातृ-भारती का उद्देश्य विद्यालय में माताओं की सहभागिता का बढ़ाना है। इस मौके पर वरिष्ठ आचार्या हर्षा अरोड़ा ने अभिभावकों का आभार प्रकट किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस