जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र: हरियाणा कला परिषद मल्टी आर्ट कल्चरल सेंटर अंबाला मंडल की ओर से हरियाणा दिवस की पूर्व संध्या पर ओपन माइक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए कलाकारों को खुला निमंत्रण दिया गया।

मैक के क्षेत्रीय निदेशक नागेंद्र शर्मा ने कहा कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य प्रदेश के उभरते कलाकारों को मंच प्रदान करना है ताकि उनकी कला में निखार लाकर प्रदेश की संस्कृति को बढ़ावा दिया जा सके। इसमें कुरुक्षेत्र, अंबाला और चंडीगढ़ से कलाकारों ने पहुंचकर प्रस्तुतियां दी। मंच का संचालन विकास शर्मा ने किया। कार्यक्रम की पहली प्रस्तुति भजन की रही, जिसमें रिशिका व माधव ने मेरे गुरुदेव वृंदावन बसा लोगे तो क्या होगा..प्रस्तुत किया। इसके बाद अनूजा ने अपनी कविता के माध्यम से समाज की सोच पर कटाक्ष करते हुए बताया कि आज के समय में हमारी सोच बहुत पुरानी है, जहां हम लड़का और लड़की में फर्क करते हैं। अगली प्रस्तुति निवेदिता और जैज की रही। इसमें गीत नीले नीले अम्बर पे चांद जब छाए के माध्यम से श्रोताओं का मन मोहा। इसके बाद रीत शर्मा ने सेमी क्लासिकल नृत्य दिखाया, वहीं सुशील हिदुस्तानी व विरेंद्र राठौड़ ने कवितापाठ किया। कार्यक्रम में करमनदीप कौर के कत्थक नृत्य, मननदीप सिंह के तबलावादन तथा गुरनूर कौर के सेमी क्लासिकल नृत्य ने भी खूब रंग जमाया। सिद्धू किरमच और पियुष मेघवाल के मैशअप पर लोगों ने जमकर तालियां बजाई। अंबाला से आए अभिजीत शर्मा ने अपनी गायकी से सभी का दिल जीता। राजीव शर्मा, आकाश और अरुण व स्वाति शुक्ला ने गीत सुनाए। कार्यक्रम में आर्यन व वंश ने अभिनय के माध्यम से बुजुर्गों की अनदेखी विषय पर प्रकाश डालने का प्रयास किया। मनीष सिधवानी ने गीत पल पल दिल के पास तुम रहती हो सुनाकर माहौल को खुशनुमा बनाया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप