जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र :

लोकनायक जयप्रकाश नागरिक अस्पताल (एलएनजेपी) में ठेके पर कार्यरत कर्मी वीरवार को हड़ताल पर जा सकते हैं। कर्मी अक्टूबर माह में वेतनमान की मांग को लेकर तीन दिन की हड़ताल पर गए थे। हाजिरी में इन तीन दिन की गैर हाजिरी दिखाई गई, जबकि कर्मियों के मुताबिक कार्यकारी सिविल सर्जन डा. अनुपमा सिंह ने तीन दिन का वेतनमान नहीं कटने का लिखित में आश्वासन दिया था। अब जो अटैडेंस बनाकर अस्पताल प्रशासन को सौंपी गई है। उसमें सभी कर्मियों की तीन दिन की गैर हाजिरी दिखाई हुई है। इससे कर्मी नाराज हैं और बुधवार देर रात तक कर्मी इसी विषय पर चर्चा करते रहे कि उन्हें वीरवार को हड़ताल पर जाना चाहिए या नहीं। वीरवार को सुबह कर्मी हड़ताल पर जाने का निर्णय ले सकते हैं।

एलएनजेपी अस्पताल में ठेके पर कार्यरत कर्मियों ने आरोप लगाया कि अस्पताल उनके साथा धोखा कर रहा है। कर्मियों का आरोप है कि तीन माह का वेतनमान नहीं मिलने की वजह से दीपावली से कुछ दिन पहले ही उन्हें हड़ताल पर जाना पड़ा था। अक्टूबर माह में तीन दिन की हड़ताल पर रहे थे। हड़ताल इसी मांग पर स्थगित की गई थी कि उनका वेतनमान दिया जाए और हड़ताल के दिनों का वेतन नहीं काटा जाए। मगर कर्मियों का आरोप है कि जो अटेंडेंस अस्पताल प्रशासन प्रक्रिया में ला रहा है उसमें सभी कर्मियों को गैर हाजिर दिखा रखा है। कर्मियों ने कहा कि उन्हें कार्यकारी सिविल सर्जन ने लिखित में आश्वासन दिया था कि हड़ताल के दिनों का उनका वेतनमान नहीं कटेगा। कर्मियों ने कहा कि अगर वीरवार को गैर हाजिरी को ठीक नहीं किया गया तो कर्मी हड़ताल पर जा सकते हैं।

कच्चे कर्मियों को हटाने के विरोध में धरने पर बैठेकर्मी

स्वास्थ्य विभाग द्वारा हटाए गए कच्चे कर्मियों का धरना जारी है। स्वास्थ्य विभाग के ठेके पर लगे कर्मियों का धरना कच्चे कर्मचारी संघ जिला प्रधान अंकुर सौडी की अध्यक्षता में जारी रहा। जिसका संचालन अंग्रेज सिंह ने किया। सर्व कर्मचारी संघ जिला प्रधान ओम प्रकाश और संत कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के मंत्री व निदेशक स्वास्थ्य विभाग के बार-बार पत्र जारी करने के बाद भी अधिकारी व ठेकेदार कोई परवाह नहीं कर रहे। कर्मियों व आमजन को गुमराह करने का काम किया जा रहा है। उन्होंने मांग की कि तुरंत प्रभाव से हटाए गए कच्चे कर्मियों को वापस ड्यूटी पर बुलाया जाए। अंकुर सौडी ने कहा कि कच्चे कर्मियों को गुमराह करने का काम कर रहा है। काफी लंबे समय से हटाए गए कर्मियों को ड्यूटी पर नहीं ले रहा है और जो कर्मी ड्यूटी पर लग चुके हैं उनको भी आज तक वेतन नहीं मिला है।

Edited By: Jagran