जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : आज विश्व हृदय दिवस है। यानी हृदय का दिन। हमें अपने दिन को संभालकर रखना चाहिए। इसकी धड़कन कम या बंद नहीं होनी चाहिए। इसके लिए आपको कुछ संभलने की जरूरत है। थोड़ी सी सावधानी बरते पर ही आप अपने दिन की धड़कन बनाए रख सकते हैं।

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय कुरुक्षेत्र के हेल्थ सेंटर के मेडिकल ऑफिसर एवं गैपिऔ सदस्य डा. आशीष अनेजा ने विश्व हृदय दिवस पर लोगों को जागरूक किया है। डा. अनेजा ने बताया कि हृदय रोग देश में मृत्युदर का एक बड़ा कारण है। इसका मुख्य कारण लगातार जीवनशैली में होने वाला बदलाव है। इन बदलावों में शारीरिक गतिविधियों का न होना, खराब आहार का सेवन, चीनी और नमक अधिक खाना और ट्रांस फैट का उच्च मात्रा में सेवन करना शामिल है। ऐसे में इन छह चीजों का पालन करते हुए भोजन में ताजे फलों को शामिल करें।

आहार में छोटे-छोटे बदलाव करें

डा. अनेजा ने बताया कि अपने आहार में छोटे-छोटे बदलाव जरूर करें। जैसे अधिक प्रोसेस्ड और तले हुए खाद्य पदार्थों की जगह सूखे, नमकीन बादाम का सेवन करना। ये न केवल आपका पेट भरेंगे बल्कि आपके संपूर्ण स्वास्थ्य में भी सहायक होगा। वहीं दूसरी और चिकित्सक से सलाह लेकर दैनिक दिनचर्या में कुछ एक्सरसाइज को शामिल करें। एक्टिव लाइफ स्टाइल के लिए तेज चलना और हल्की जॉगिग को अपनाएं। योग और जिम को भी अपना सकते हैं। दिल मजबूत रखने के लिए वजन कम करें

डा. अनेजा ने बताया कि हृदय को स्वस्थ रखने के लिए व्यक्ति को वजन कम रखना जरूरी है। इसके लिए बादाम एक अच्छा स्नेकिग विकल्प है। एक अध्ययन से पता चला है कि हर रोज 42 ग्राम बादाम खाने से एलडीएल कोलेस्ट्रॉल में काफी सुधार के अलावा पेट की चर्बी और कमर के आकार में कमी आती है। हाल के सर्वेक्षण के अनुसार 86 फीसद के वैश्विक औसत की तुलना में लगभग 89 प्रतिशत भारतीयों ने तनाव का सामना करने की बात कही है।

धूम्रपान से दूरी और अपनों से दूरी बनाकर रखें

सर्वेक्षण बताता है कि समग्र कल्याण के लिए अपने तनाव को नियंत्रण में रखने की दिशा में काम करना जरूरी है। इसके लिए खुशी देने वाली चीजों को चुनें। मेडिटेशन करें, पेंटिग करें, किताब पढ़े, दोस्तों और परिवार वालों के साथ वक्त बिताएं। बेवजह का स्ट्रेस भी दिल की बीमारी को बढ़ाता। धूम्रपान की वजह से भी हार्ट की बीमारी का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। सिगरेट पीना छोड़ देने से पांच साल के अंदर हृदय रोग होने का खतरा 39 फीसद तक कम हो सकता है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस