जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के केमेस्ट्री व बायोकेमेस्ट्री विभाग के सेवानिवृत्त प्रोफेसर एवं वैज्ञानिक डा. कुलदीप सिंह ढींडसा को दो वर्षों के लिए कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में एकेडेमिक काउंसिल का सदस्य मनोनीत किया गया है।

यह जानकारी लोकसंपर्क विभाग के उप-निदेशक डा. दीपक राय बब्बर ने दी। उन्होंने बताया कि डा. कुलदीप ढींडसा को प्रख्यात शिक्षाविद् होने की क्षमता के तहत दो वर्षो के लिए कुवि की एकेडेमिक काउंसिल का सदस्य मनोनीत किया गया है। उन्होंने बताया कि इससे पहले भी डा. ढींडसा चार वर्षो तक कुवि की एकेडमिक काउंसिल के सदस्य रह चुके हैं। अपनी इस नियुक्ति के लिए डा. कुलदीप ढींडसा ने कुलपति प्रो. सोमनाथ सचदेवा का आभार प्रकट करते हुए कहा कि वे अपनी इस जिम्मेदारी का निर्वहन पूरी लगन, निष्ठा व ईमानदारी के साथ करेंगे। इसके अलावा वर्तमान में डा. ढींडसा उत्तराखंड के दून विश्वविद्यालय देहरादून की एकेडमिक काउंसिल के सदस्य व कई विश्वविद्यालयों के एक्सपर्ट पैनल में भी शामिल हैं। अपने 35 वर्ष के सेवाकाल में डा. कुलदीप ने रसायन विज्ञान व पर्यावरण विज्ञान के क्षेत्र में देश व विदेश में हरियाणा का नाम रोशन किया। रसायन विज्ञान में अभूतपूर्व योगदान के लिए प्रोफेसर कुलदीप सिंह ढींडसा को 1976 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने भारतीय राष्ट्रीय वैज्ञानिक अवार्ड से सम्मानित किया था। जर्मनी और अमेरिका में कई बार विजिटिेग प्रोफेसर रह चुके डा. कुलदीप ढींडसा का अनुसंधान 160 शोधपत्रों के रूप में प्रकाशित हो चुका है। अनुसंधान के सिलसिले में उन्होंने जर्मनी, फ्रांस, स्पेन, स्विट्जरलैंड, स्वीडन, डेनमार्क, इंग्लैंड समेत कई देशों की यात्रा की है। इसके अलावा उन्हें भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान एकेडेमिक अवार्ड, अनुसंधान उपकरण उपहार अवार्ड, डा. आंबेडकर राष्ट्रीय सेवा श्री अवार्ड, फुलब्राइट स्कालर अवार्ड, विज्ञान रत्न अवार्ड, प्रोफेसर पीके बोस अवार्ड, हरियाणा रत्न अवार्ड, लाइफ टाइम अचिवमेंट अवार्ड व ज्ञानचंद जैन स्मारक अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका हैं।

Edited By: Jagran