जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : हरियाणा चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज की कुरुक्षेत्र इकाई की एक महत्वपूर्ण बैठक एक निजी होटल में हुई। इस बैठक में कुरुक्षेत्र जिला के विभिन्न उद्योगपति और व्यवसायी शामिल हुए। हरियाणा चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज के मुख्य सदस्य धर्मपाल सिगला ने बैठक में हरियाणा बिजली निगम की कार्यप्रणाली पर आपत्ति जताई। कहा कि सरकार उद्योगों को बढ़ावा देने के स्थान पर नुकसान पहुंचा रही है। उन्होंने उद्योगपतियों की बिजली निगम से विभिन्न समस्याओं पर चर्चा करते हुए बताया कि सरकार नाजायज तरीके बंद पड़ी फैक्ट्रियों से भी 24 घंटे के हिसाब से बिजली के बिल वसूल रही है। इन बिजली बिलों के कारण उद्योगपतियों को भारी नुकसान हो रहा है। सिगला ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी उद्योगों को प्रोत्साहित करने के स्थान पर सरकार द्वारा भारी नुकसान पहुंचाया जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों के उद्योगों से पीक आवर्स के हिसाब से बिल लिया जा रहा है। जो उद्योगों के लिए बिलकुल ही नाजायज है। उद्योगपतियों ने कहा कि सरकार की इन्हीं नीतियों के कारण उद्योग बंद हो रहे हैं। इसी बैठक में पवन भारद्वाज एडवोकेट ने सरकार की विभिन्न योजनाओं पर अपना वक्तव्य दिया। उन्होंने उद्योगपतियों तथा व्यवसायियों को लेबर एक्ट तथा ईएसआइ के बारे में विस्तार से जानकारी दी। साथ ही उद्योगपतियों तथा व्यवसायियों को उनके प्रश्नों का उत्तर देते हुए भारद्वाज ने कहा कि लेबर एक्ट तथा ईएसआइ के बारे में जानकारी होना जरूरी है। इसी अवसर पर अध्यक्ष राजेंद्र सिघल तथा महासचिव डॉ.नरेंद्र पाल गुप्ता ने बताया कि शीघ्र ही कुरुक्षेत्र के सेक्टर-पांच में ईएसआइ डिस्पेंसरी का शुभारंभ किया जा रहा है। इस बैठक में कुलवंत सैनी, बलदेव राज, धर्मपाल गुप्ता, केके गर्ग, वीरेंद्र सिघल, अमित गोयल, विशाल गोयल, नरेंद्र, सुनील कुमार, सत्य प्रकाश गुप्ता, परमेश, ओम प्रकाश, ईश्वर सिघल, सुरेंद्र गुप्ता, सुदर्शन अग्रवाल, राजेश सिगला, रविद्र मौजूद थे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप