जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी की ओर से पिछले दिनों घोषित 10 वीं और 12वीं के परीक्षा परिणाम में राजकीय स्कूलों को बेहतरीन प्रदर्शन रहा है। इसके चलते शिक्षा विभाग के अधिकारी भी उत्साहित हैं। जिला शिक्षा अधिकारी अरुण आश्री का कहना है कि अब प्रदर्शन में लगातार सुधार हो रहा है। सबसे अच्छी बात ये है कि भले ही परीक्षा परिणाम के प्रतिशत में बढ़ोत्तरी कम हुई है, लेकिन छात्रों की क्वालिटी में अंतर आ रहा है। इस बार 12वीं का परीक्षा परिणाम जहां निजी स्कूलों से बेहतर रहा है वहीं दसवीं में इस बार जिले की टॉप 10 की सूची में राजकीय विद्यालय की छात्रा भी है। इस सत्र से सक्षम के बाद सक्षम प्लस योजना को आगे बढ़ाया जाएगा। साप्ताहिक साक्षात्कार में जिला शिक्षा अधिकारी अरुण आश्री ने विभाग की अन्य योजनाओं की जानकारी भी दी। प्रश्न : परीक्षा परिणाम से आप कितने खुश हैं?

उत्तर : इस बार परीक्षा परिणाम बेहतर रहा है। पिछले वर्षों की अपेक्षा सरकारी स्कूलों के परीक्षा परिणाम बेहतर हुए हैं। 12वीं के परीक्षा परिणाम में पास प्रतिशत निजी स्कूलों से ज्यादा है तो 10वीं में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय हरिपुर की छात्रा ने जिले में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। जो बेहतर संकेत हैं। प्रश्न : क्वालिटी में इंप्रूवमेंट कैसे मान रहे हैं?

उत्तर : इस बार परीक्षा परिणाम में पास प्रतिशत तो बढ़ा ही है सबसे बड़ी बात ये है कि इस बार विद्यार्थियों की मेरिट बढ़ी है। जो विद्यार्थी पास हुए हैं उनमें से 20 प्रतिशत से अधिक की मेरिट आई है। वहीं सरकारी स्कूलों में जहां लोग ऐसा नहीं सोच सकते बच्चे 90 प्रतिशत से अधिक अंक भी प्राप्त कर रहे हैं। प्रश्न : सक्षम योजना में आगे क्या कर रहे हैं ?

उत्तर : सक्षम योजना से विद्यार्थियों की याद करने की क्षमता का विकास हो रहा है। इस बार सक्षम योजना के साथ ही सक्षम प्लस योजना शुरू की जाएगी। अब तक 3,5, और 7 को ही सक्षम में शामिल किया गया था, लेकिन इस बार 3 से आठवीं तक सभी कक्षाओं को शामिल किया गया है। इस बार 3,5,7 को जहां सक्षम में होंगे वहीं चौथी, छठी और आठवीं सक्षम प्लस में भाग लेंगे। प्रश्न : छुट्टियों के लिए क्या योजना है?

उत्तर : इस बार छुट्टियों में दबाव रहित होमवर्क दिया जाएगा। इसके लिए कई शिक्षकों को छुट्टियों के दिनों में भी कुछ कक्षाएं लगाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है और कुछ शिक्षक तैयार भी हैं। जो बच्चों को हॉबी कक्षाओं की तरह तैयारी कराएंगे। होमवर्क के दबाव को भी कम करने के लिए एनसीआरटी और डाइट से सुझाव लिए जा रहे हैं। जल्द ही इस विषय को लेकर बैठक कर तैयारी की जाएगी, ताकि बच्चों पर दबाव कम हो, लेकिन वे शिक्षण कार्य से दूर भी न जाएं।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस