जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : गुरपतवंत सिंह पन्नू ने रैफरंडम-2020 के पक्ष में शनिवार को छठी पातशाही गुरुद्वारा से अरदास कर वोटिग करने का अल्टीमेटम दिया था। प्रदेश के सिखों ने इसे सिरे से खारिज कर दिया। खालिस्तान के अल्टीमेटम के बाद पुलिस अलर्ट रही और गुरुद्वारा साहिब के आसपास सुरक्षा व्यवस्था दिनभर कड़ी रखी। सादी वर्दी में पुलिस कर्मी गुरुद्वारे में तैनात रहे और खुद एसपी आस्था मोदी ने हर गतिविधि की जानकारी लेती रही। प्रशासन की ओर से ऐहतियात के तौर पर गुरुद्वारे में धारा-144 लगाई गई थी। किसी भी संगत को गुरुघर में जाने से रोका नहीं गया। संगत ने रोजाना की तरह गुरुद्वारा साहिब में पहुंचकर श्री गुरु ग्रंथ साहिब के समक्ष शीश नवाया।

हरियाणा में रैफरंडम-2020 को लेकर गुरपतवंत सिंह पन्नू ने मुहिम शुरू की थी। पिछले 20 दिनों से विदेश से फोन कॉल के जरिए सिख संगत को रैफरंडम के लिए वोटिग करने को उकसाया जा रहा था। पन्नू की ओर से 11 जुलाई शनिवार को गुरुद्वारा छठी पातशाही में अरदास कर रैफरंडम के पक्ष में वोटिग करने का अल्टीमेटम करते हुए ऑडियो भी जारी हुआ था। दो दिन से ऑडियो कॉल दिन में तीन से चार बार आ रही थी। इस ऑडियो के बाद प्रशासन सतर्क हुआ और गुरुद्वारा छठी पातशाही पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई। आंबेडकर चौक व देवीलाल चौक पर नाका लगाकर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई। गुरुद्वारे के साथ लगते सिख मिशन में कमरा भी किराए पर नहीं दिया जा रहा है।

गुरुद्वारा छठी पातशाही के प्रबंधक अमरेंद्र सिंह का कहना है कि सिख फॉर जस्टिस की ओर से कार्यक्रम का आयोजन मात्र अफवाह था। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की ओर से भविष्य में भी किसी भी ऐसे कार्यक्रम का समर्थन नहीं करता। इस बारे में दो दिन पहले सिख संगत को बता दिया गया था कि ऐसी अफवाहों से बचें। पंजाब से आने वाले रास्तों पर की गई थी नाकाबंदी

अल्टीमेटम के बाद पुलिस पूरी तरह अलर्ट हो गई। पंजाब से आने वाले रास्तों पर नाकाबंदी की गई थी। पंजाब से आने वाले वाहनों की जांच की गई और गुरुद्वारे के आसपास नाकाबंदी कर हर गतिविधि पर नजर रखी गई। अल्टीमेटम के बाद गुरुद्वारे की सुरक्षा में तीन रिजर्व के साथ सीआइए-वन और टू, एंटी नारकोटिक सैल, शहर थाना, केयूके व सदर थाना प्रभारियों को तैनात किया गया है। हर गतविधि की जानकारी स्वयं एसपी ने ली। गुरुद्वारा प्रबंधक समिति ने दिया प्रशासन को पूर्ण समर्थन : एसपी

एसपी आस्था मोदी ने कहा कि ऑडियो मैसेज के बाद पुलिस पूरी सतर्क थी। गुरुद्वारा प्रबंधक समिति ने इस बारे में दो दिन पहले ही क्लीयर कर दिया था वे इस प्रकार के किसी कार्यक्रम का समर्थन नहीं करते हैं। वे प्रशासन के साथ हैं। कोई शरारती तत्व किसी प्रकार का व्यवधान न करे, इसलिए सुरक्षा बढ़ाई गई थी।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021