जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : स्वास्थ्य विभाग के आपातकालीन सेवाओं का नेटवर्क सिस्टम पूरी तरह से चरमरा गया है। एंबुलेंस चालकों के मोबाइल नंबर पिछले 15 दिन से बंद पड़े हैं, जिसकी वजह से अधिकारियों व कर्मचारियों की एंबुलेंस चालकों से कनेक्टिविटी टूट सी गई है। वहीं 108 कंट्रोल रूम भी चालकों के निजी मोबाइल नंबरों पर आश्रित हो गया है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन ने हड़ताल पर जाने के बाद इन कर्मचारियों के मोबाइल नंबर बंद करा दिए थे, जिसे स्वास्थ्य विभाग दोबारा चलवाना भूल गया।

गौरतलब है कि फरवरी माह में पांच फरवरी से राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन कर्मचारियों ने हड़ताल शुरू कर दी थी, जिस पर एंबुलेंस चालक भी हड़ताल पर चले गए थे। जब कर्मचारियों ने हड़ताल खत्म करने से मना किया तो मिशन ने एंबुलेंस चालकों के सरकारी मोबाइल नंबरों को बंद करा दिया था। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग इन मोबाइल नंबरों को फिर से शुरू कराना ही भूल गया। जबकि एंबुलेंस चालकों की कनेक्टिविटी इन्हीं सरकारी मोबाइल नंबरों से होती थी, जो अब निजी मोबाइल से हो रही है। बॉक्स

नहीं थी जानकारी, उच्चाधिकारियों के संज्ञान में लाया जाएगा मामला

एनएचएम के नोडल अधिकारी डॉ. एनपी सिंह ने बताया कि न तो मोबाइल नंबर बंद करने की सूचना उन्हें दी गई थी और न ही शुरू करने के लिए उन्हें कोई आदेश मिले हैं। फिर भी इस मामले को उच्चाधिकारियों के संज्ञान में लाया जाएगा, जिसके बाद मोबाइल नंबर चलाने की प्रक्रिया शुरू कराने की अपील की जाएगी।

Posted By: Jagran